बिहार चुनाव : BJP-JDU में 50-50 पर बनी बात, 122 सीटों पर नीतीश उतारेंगे कैंडिडेट : सूत्र

बिहार चुनाव को लेकर बीजेपी की चुनाव समिति की बैठक आज होनी है. माना जा रहा है कि सीएम नीतीश कुमार की जेडीयू के खाते में 122 सीटें आएंगी, जीतन राम मांझी को भी इन्हीं सीटों में शामिल किया जाएगा.

बिहार चुनाव : BJP-JDU में 50-50 पर बनी बात, 122 सीटों पर नीतीश उतारेंगे कैंडिडेट : सूत्र

सीएम नीतीश कुमार के साथ डिप्टी सीएम सुशील मोदी.

पटना:

बिहार विधान सभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) में सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू (JDU) और सहयोगी बीजेपी (BJP) के बीच सैद्धांतिक तौर पर सीट बंटवारे पर सहमति बन गई है. एनडीटीवी को सूत्रों ने बताया कि जल्द ही इसका ऐलान किया जाएगा. सूत्रों के मुताबिक बीजेपी और जेडीयू में 50-50 पर बात बनी है. कहा जा रहा है कि 243 सदस्यों वाली विधानसभा के लिए नीतीश कुमार की पार्टी 122 सीटों पर जबकि बीजेपी 121 सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी. जेडीयू अपने खाते से जीतनराम मांझी की हम को सीटें देगी, जबकि बीजेपी अपने कोटे से लोजपा को टिकट देगी.

बीजेपी की चुनाव समिति की बैठक आज होनी है. माना जा रहा है कि उसके बाद सीट बंटवारे का एलान कर दिया जाएगा.  हालांकि, चिराग पासवान एनडीए में रहते हैं या नहीं, इस पर भी आखिरी फैसला होना बाकी है. उधर, विपक्षी महागठबंधन ने एक दिन पहले ही सीट बंटवारे का एलान कर दिया है.

इससे पहले भाजपा के शीर्ष नेताओं ने चिराग पासवान के साथ बैठक कर आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दलों के बीच सीटों के बंटवारे के मामले को सुलझाने का प्रयास किया था. लोजपा सूत्रों के मुताबिक पासवान ने इस बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री और राजग के प्रमुख घटक दल जनता दल (यूनाइटेड) के अध्यक्ष नीतीश को लेकर पार्टी की शिकायतों से अवगत कराया. इस दौरान उन्होंने 143 सीटों पर चुनाव लड़ने के पार्टी के अंदरूनी दबाव के बारे में भी भाजपा नेताओं को बताया. 

यह भी पढ़ें: चिराग ने ‘बिहार फर्स्ट' दृष्टिपत्र के लिए जन समर्थन मांगा, लोजपा के अकेले चुनाव लड़ने की संभावना

बता दें कि पहले चरण के तहत राज्य की 243 में से 71 विधानसभा सीटों पर मतदान होना है. इसके लिए नामांकन की प्रक्रिया गुरुवार को आरंभ हो गई है, जो आठ अक्टूबर तक चलेगी. लोजपा ने संकेत दिए हैं कि यदि सीटों का ‘‘सम्मानजनक'' बंटवारा नहीं हुआ तो वह राज्य की 143 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार सकती है. वर्ष 2015 के चुनाव में लोजपा 42 सीटों पर चुनाव लड़ी थी और उसे महज दो ही सीटों पर जीत मिल सकी थी. उस चुनाव में जद(यू) महागठबंधन का हिस्सा था. राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस के साथ मिलकर उसने राजग को पटखनी दी थी.  

यह भी पढ़ें: बिहार चुनाव : प्रेस कॉन्फ्रेंस के बीच में VIP पार्टी के मुकेश सहनी ने किया महागठबंधन छोड़ने का ऐलान

इस बीच बिहार में एनडीए में टूट करीब करीब तय मानी जा रही है. बीजेपी लोजपा को केवल 15 सीटें देना चाहती है जबकि लोजपा 42 सीटें मांग रही है. जेडीयू कह चुकी है कि उसका लोजपा से गठबंधन नहीं, बीजेपी अपने हिस्से से लोजपा को सीट दे सकती है. उधर जेडीयू और बीजेपी के बीच भी खटपट जारी है. जेडीयू बीजेपी से ज्यादा सीटों पर लड़ना चाहती है. दोनों दलों में अभी तक सहमति नहीं बन सकी है.

माना जा रहा है कि गठबंधन टूटने पर लोजपा बीजेपी के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारेगी. लोजपा-बीजेपी के गठबंधन के साथ चुनावी मैदान में उतरने की पार्टी की योजना है. लोजपा मोदी, रामविलास और चिराग के नाम पर चुनाव लड़ेगी. साथ ही पार्टी जेडीयू के खिलाफ उम्मीदवार उतारेगी . इस चलते जेडीयू बीजेपी के बीच इसे लेकर विवाद हो सकता है. 


वहीं लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अध्यक्ष चिराग पासवान ने अपनी पार्टी के ‘बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट' दृष्टि पत्र के लिए शनिवार को लोगों का ‘‘आशीर्वाद'' मांगा. यह दस्तावेज इस बारे में संकेत देता है कि पार्टी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के तहत राज्य विधानसभा चुनाव नहीं लड़ सकती है.

बिहार : महागठबंधन में हुआ सीटों का बंटवारा, VIP पार्टी ने छोड़ा साथ

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com