बिहार शपथ ग्रहण: देवेंद्र फडणवीस बोले, 'नाराज नहीं हैं सुशील मोदी, नई भूमिका दी जाएगी'

शपथ ग्रहण समारोह के बाद सुशील मोदी से संबंधित सवाल पर नीतीश ने कहा, 'यह बीजेपी का निर्णय है. आपको बीजेपी से इस बारे में पूछना चाहिए.'

बिहार शपथ ग्रहण: देवेंद्र फडणवीस बोले, 'नाराज नहीं हैं सुशील मोदी, नई भूमिका दी जाएगी'

खास बातें

  • लंबे समय तक नीतीश के डिप्‍टी सीएम रहे सुशील मोदी
  • इस बार उनकी जगह बीजेपी ने दो डिप्‍टी सीएम बनाए
  • अटकलें हैं, सुशील मोदी को केंद्र में मिल सकता है कोई रोल
पटना :

Nitish Kumar oath Ceremony: रिकॉर्ड लगातार चौथी बार बिहार के मुख्‍यमंत्री के तौर पर शपथ लेने के थोड़ी देर बाद नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने  माना है कि वे अपने लंबे समय के उप मुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) को याद करेंगे. सुशील मोदी को नीतीश कैबिनेट में स्‍थान नहीं दिया गया है और इस बार बीजेपी के कोटे से दो उप मुख्‍यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी ने शपथ ली है. बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश की जेडीयू की तुलना में काफी ज्‍यादा सीट हासिल करने के बाद बीजेपी ने नए नेतृत्‍व के लिए रास्‍ता बनाते हुए मोदी (सुशील) को बिहार से बाहर रखा और दो नए उप मुख्‍यमंत्री नियुक्‍त करने का निर्णय लिया. पार्टी ने इस बात से इनकार किया है कि 15 साल की नीतीश की सत्‍ता के दौरान ज्‍यादातर समय डिप्‍टी सीएम रहे सुशील मोदी इस 'बदलाव' से नाखुश हैं.

बिहार : सुशील मोदी को मंत्रिमंडल में नहीं रखने पर क्या है चर्चा?

बिहार चुनाव में बीजेपी के प्रभारी देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने कहा, 'सुशील मोदी नाखुश नहीं हैं. वह हमारे लिए 'एसेट' हैं. पार्टी उनके बारे में सोचेगी और उन्‍हें नई जिम्‍मेदारी सौंपी जाएगी.' सुशील कुमार मोदी की ओर से रविवार को किए गए पोस्‍ट के बाद उनके निराश होने की अटकलें तेज हो गई थीं. उन्‍होंने अपने ट्वीट में लिखा, 'भाजपा एवं संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया कि शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा. आगे भी जो ज़िम्मेदारी मिलेगी, उसका निर्वहन करूंगा. कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता.'''

नीतीश कुमार फिर बने सीएम तो प्रशांत किशोर का आया रिएक्शन, कहा - उन्हें भाजपा ने...

पार्टी के साथी और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) भी उन्‍हें आश्‍वस्‍त करते हुए नजर आए. बिहार से सांसद गिरिराज ने अपने ट्वीट में लिखा,  "आदरणीय सुशील जी आप नेता हैं, उप मुख्यमंत्री का पद आपके पास था, आगे भी आप भाजपा के नेता रहेंगे ,पद से कोई छोटा बड़ा नहीं होता." नीतीश और सुशील मोदी के लंबे जुड़ाव ने कई उतार चढ़ाव देखे हैं. बिहार में एनडीए में जब भी कोई मतभेद जैसी स्थिति सामने आती थी, सुशील मोदी आगे आते थे. नीतीश को जब चिराग पासवान और यहां तक कि कुछ बीजेपी नेताओं के हमले का सामना करना पड़ा, उस समय भी 'बिहार के मोदी' अपने मुख्‍यमंत्री के बचाव में आगे रहे. ऐसा माना जा है कि सुशील मोदी ने ही वर्ष 2017 में नीतीश ने आरजेडी और कांग्रेस के साथ गठबंधन से बाहर 'लाने' में खास रोल निभाया था. शपथ ग्रहण समारोह के बाद सुशील मोदी से संबंधित सवाल पर नीतीश ने कहा, 'यह बीजेपी का निर्णय है. आपको बीजेपी से इस बारे में पूछना चाहिए.' क्‍या वे सुशील मोदी को मिस करेंगे, इस सवाल पर मुख्‍यमंत्री का सीधा जवाब था-हां.


सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com