कोवैक्सीन के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल के लिए 26 हजार वॉलेंटियर जुटाने की राह पर भारत बायोटेक 

भारत बायोटेक के वैक्सीन के लिये यह सिफारिश के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के द्वारा ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के टीके कोविशील्ड के आपातकालीन उपयोग के आवेदन को मंजूरी दिये जाने के एक दिन बाद की गयी है.

कोवैक्सीन के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल के लिए 26 हजार वॉलेंटियर जुटाने की राह पर भारत बायोटेक 

नई दिल्ली :

दवा बनाने वाली घरेलू कंपनी भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने शनिवार को कहा कि वह कोविड-19 के अपने टीके ‘कोवैक्सीन' के तीसरे चरण के नैदानिक (क्लीनिकल) परीक्षण के लिये देश भर में करीब 26 हजार स्वयंसेवक जुटाने का लक्ष्य पाने की राह पर है. कंपनी ने कहा कि पहले ही परीक्षण के लिये 23 हजार स्वयंसेवक उससे जुड़ चुके हैं.

कंपनी का यह बयान भारत के केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की एक विशेषज्ञ समिति के द्वारा आपातकालीन स्थिति में कोवैक्सीन के सीमित उपयोग की मंजूरी दिये जाने की सिफारिश के बाद आया है.

यह भी पढ़ें- भारत बायोटेक की कोविड वैक्सीन को सरकार के पैनल ने दी हरी झंडी, अंतिम मंजूरी का इंतजार

भारत बायोटेक के वैक्सीन के लिये यह सिफारिश के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के द्वारा ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के टीके कोविशील्ड के आपातकालीन उपयोग के आवेदन को मंजूरी दिये जाने के एक दिन बाद की गयी है.

भारत बायोटेक, सीरम इंस्टीट्यूट और फाइजर ने ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) के पास अपने संबंधित टीकों के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी के लिये आवेदन किया था.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)