राम मंदिर के लिए ट्रस्ट ने खरीदी 7,285 वर्ग फुट जमीन, अब 70 नहीं 107 एकड़ में फैला होगा मंदिर

‘राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ ने राम जन्मभूमि परिसर के पास 7,285 वर्ग फुट जमीन खरीदी है. भव्य मंदिर का निर्माण कर रहे ट्रस्ट ने 7,285 वर्ग फुट जमीन की खरीद के लिए 1,373 रुपये प्रति वर्ग फुट की दर से एक करोड़ रुपये दिए हैं.

राम मंदिर के लिए ट्रस्ट ने खरीदी 7,285 वर्ग फुट जमीन, अब 70 नहीं 107 एकड़ में फैला होगा मंदिर

अयोध्या में बन रहे राम मंदिर की जमीन बढ़ाई गई.

अयोध्या:

राम मंदिर परिसर का विस्तार 70 एकड़ से बढ़ाकर 107 एकड़ करने की योजना के तहत ‘राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' ने राम जन्मभूमि परिसर के पास 7,285 वर्ग फुट जमीन खरीदी है. ट्रस्ट के एक अधिकारी ने गुरुवार को इस बारे में बताया. अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध शहर में भव्य मंदिर का निर्माण कर रहे ट्रस्ट ने 7,285 वर्ग फुट जमीन की खरीद के लिए 1,373 रुपये प्रति वर्ग फुट की दर से एक करोड़ रुपये का भुगतान किया है.

न्यासी अनिल मिश्रा ने कहा, ‘हमने यह जमीन खरीदी है क्योंकि राम मंदिर के निर्माण के लिए हमें और जगह चाहिए थी.' ट्रस्ट की खरीदी गई यह जमीन अशरफी भवन के पास स्थित है.

फैजाबाद के उप-पंजीयक एसबी सिंह ने बताया कि जमीन के मालिक दीप नरैन ने ट्रस्ट के सचिव चंपत राय के पक्ष में 7,285 वर्ग फुट भूमि की रजिस्ट्री के दस्तावेजों पर 20 फरवरी को हस्ताक्षर किए. मिश्रा और अपना दल के विधायक इंद्र प्रताप तिवारी ने गवाह के तौर पर दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किए. फैजाबाद के उप-पंजीयक एसबी सिंह के कार्यालय में ही यह रजिस्ट्री की गई.

यह भी पढ़ें : राम मंदिर की जमीन के नीचे 200 फीट तक बालू और सरयू का पानी, चार IIT सुझाएंगे उपाय..


तिवारी ने कहा, ‘राम मंदिर ट्रस्ट द्वारा पहली बार जमीन खरीदने की प्रक्रिया का हिस्सा बन भाग्यशाली महसूस कर रहा हूं.' सूत्रों के अनुसार, ट्रस्ट की योजना अभी और जमीन खरीदने की है. राम मंदिर परिसर के पास स्थित मंदिरों, मकानों और खाली मैदानों के मालिकों से इस संबंध में बातचीत जारी है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सूत्रों ने बताया कि ट्रस्ट विस्तारित भव्य मंदिर परिसर का निर्माण 107 एकड़ में करना चाहता है और इसके लिए उसे अभी 14,30,195 वर्ग फुट जमीन और खरीदनी होगी. बता दें कि मुख्य मंदिर का निर्माण पांच एकड़ जमीन पर किया जाएगा और बाकी जमीन पर संग्रहालय और पुस्तकालय आदि जैसे केंद्र बनाए जाएंगे.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)