कोरोना वायरस के खिलाफ मुंबई की 86 प्रतिशत से ज्यादा आबादी में एंटबॉडी विकसित: सर्वेक्षण

महामारी के बाद से इस तरह का यह पांचवा सर्वेक्षण है और यह 12 अगस्त से नौ सितंबर, 2021 के बीच किया गया.

कोरोना वायरस के खिलाफ मुंबई की 86 प्रतिशत से ज्यादा आबादी में एंटबॉडी विकसित: सर्वेक्षण

प्रतीकात्मक तस्वीर.

मुंबई:

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने शुक्रवार को दावा किया कि नवीनतम सीरो-सर्वेक्षण के अनुसार मुंबई की 86.64 प्रतिशत आबादी में कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी है. महानगरपालिका की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार महामारी के बाद से इस तरह का यह पांचवा सर्वेक्षण है और यह 12 अगस्त से नौ सितंबर, 2021 के बीच किया गया. विज्ञप्ति में बताया गया कि झुग्गियों में 87.02 फीसदी आबादी में एंटीबॉडी है जबकि अन्य इलाकों में यह 86.22 फीसदी है.

कोविड-19 टीकाकरण में शीर्ष पर रहा कर्नाटक, 26.92 लाख लोगों को लगे टीके

बीएमसी ने बताया, ‘‘ग्रेटर मुंबई शहर में झुग्गी और गैर झुग्गी बस्तियों में कुल मिलाकर पिछले सर्वेक्षण की तुलना में एंटीबॉडी कहीं ज्यादा है.'' बीएमसी ने कहा कि मुंबई ‘द्वीप शहर' और उपनगरों में एंटीबॉडी में उल्लेखनीय अंतर नहीं है. टीके की दोनों खुराक या एक खुराक लेने वाली 90.26 प्रतिशत आबादी में एंटीबॉडी मिले जबकि टीके की खुराक नहीं लेने वालों में यह 79.86 फीसदी था. 


कोविड-19 की दवाओं पर छूट की अवधि 31 दिसंबर तक बढ़ाई : निर्मला सीतारमण

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं लैंगिक तुलना के संबंध में 88.29 प्रतिशत महिलाओं में जबकि 85.07 फीसदी पुरुषों में एंटीबॉडी मिला. सर्वेक्षण में 8,674 नमूनों की जांच की गई, जिनमें से 20 फीसदी नमूने स्वास्थ्य कर्मियों के थे.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)