कोरोना के नए वरिएंट के खतरे के बीच लोगों को याद आई वैक्सीन, महाराष्ट्र में बढ़ा वैक्सिनेशन

महाराष्ट्र में वैक्सिनेशन की स्पीड बढ़ गई है. जो निजी सेंटर खाली पड़े थे और वैक्सीन बर्बादी का डर था उन सेंटर पर अच्छी संख्या में लोग जुटने लगे हैं. महाराष्ट्र में सोमवार को 11 लाख टीके लगे, नवम्बर महीने में यह एक दिन में सबसे ज्यादा संख्या है.

कोरोना के नए वरिएंट के खतरे के बीच लोगों को याद आई वैक्सीन, महाराष्ट्र में बढ़ा वैक्सिनेशन

महाराष्ट्र में सोमवार को 11 लाख टीके लगे, नवम्बर महीने में यह एक दिन में सबसे ज्यादा संख्या है. (फाइल फोटो)

मुंबई:

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन आने के बाद से ही चिंता बढ़ गई है. इसी बीच महाराष्ट्र में वैक्सिनेशन की स्पीड बढ़ गई है. जो निजी सेंटर खाली पड़े थे और वैक्सीन बर्बादी का डर था उन सेंटर पर अच्छी संख्या में लोग जुटने लगे हैं. महाराष्ट्र में सोमवार को 11 लाख टीके लगे, नवम्बर महीने में यह एक दिन में सबसे ज्यादा संख्या है. इनमें करीब 57% दूसरी डोज वाले रहे.

कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के कहर में भी कारगर रहा कोविशील्ड का सुरक्षा कवच : लैंसेट

ज़्यादातर लोग अपनी दूसरी डोज लेने आ रहे हैं. कुछ बुजुर्ग भी दिखे जो अब पहली डोज ले रहे हैं. महाराष्ट्र में करीब 92 लाख लोगों ने समय पर टीके की दूसरी डोज नहीं ली है, मुंबई में इसकी संख्या करीब 3.5 लाख है. निजी सेंटर बताते हैं की एक सप्ताह में करीब 10% वैक्सिनेशन बढ़ा है, ज्यादातर अपनी दूसरी डोज लेने पहुंच रहे हैं.

मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 20 नए केस सामने आए, सीएम शिवराज ने दिए सख्ती के निर्देश

मुंबई के लायंस क्लब अस्पताल के डॉ सुहास देसाई ने बताया, ‘ओमिक्रॉन की वजह से जो डर बना है उसको लेकर वैक्सिनेशन पर भरोसा बढ़ा है. एक हफ्ते में करीब 10% लोग बढ़े हैं हमारे सेंटर पर. इनमें ज्यादातर लोग अपनी दूसरी डोज के लिए आ रहे हैं.'
 


कोरोना के बढ़ते खतरे के बीच 40 हजार डॉक्टर क्यों हैं हड़ताल पर?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com