दिल्ली में हवा नवंबर में पहली बार इतनी बेहतर, लेकिन कल से हालात फिर बिगड़ने का अंदेशा

वायु गुणवत्ता की निगरानी एजेंसी ‘सफर’ ने अनुमान लगाया है कि स्थानीय और सतही हवाएं बुधवार से फिर धीमी हो सकती हैं. इससे वायु प्रदूषण में फिर बढ़ोतरी हो सकती है.

दिल्ली में हवा नवंबर में पहली बार इतनी बेहतर, लेकिन कल से हालात फिर बिगड़ने का अंदेशा

दिल्ली में एयर पॉल्यूशन अभी भी खराब श्रेणी में बना हुआ है

नई दिल्ली:

दिल्ली में वायु प्रदूषण (Air pollution ) की स्थिति में थोड़ा सुधार देखने को मिला है, हालांकि ये अभी भी खराब श्रेणी में है. दिल्ली में एक नवंबर के बाद पिछले 22 दिनों में पहली बार प्रदूषण (Delhi Pollution) में गिरावटआई है. इस राहत के पीछे हवाओं की रफ्तार में आई तेजी है, जिससे प्रदूषणकारी तत्वों में बिखराव हुआ है. दिल्ली में मंगलवार को 24 घंटे का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 290 दर्ज किया गया. वायु गुणवत्ता बेहद खराब से खराब श्रेणी में रही. इसके साथ ही हवा की गति 25 किलोमीटर प्रति घंटा के आसपास रही. इससे पिछले दो दिन के दौरान प्रदूषक तत्वों के बिखराव में मदद मिली है.

Air Pollution Diet: वायु प्रदूषण से बचने के लिए डाइट में शामिल करें ये चीजें

1 नवंबर को 24 घंटे का औसत एक्यूआई 281 दर्ज किया गया था. उसके बाद दूसरी बार 23  सूचकांक सबसे बेहतर रहा. बाकी के दिनों में दिल्ली में वायु गुणवत्ता बेहद खराब से गंभीर श्रेणी में दर्ज की गई है. भारत मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने बताया कि रविवार को 20 किलोमीटर प्रति घंटे और सोमवार को 25 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवाओं से वायु गुणवत्ता में और दृश्यता में सुधार देखने को मिला है.


दिल्ली का एक्यूआई रविवार को 349 और सोमवार को 311 के साथ बहुत खराब श्रेणी में था. NCR  की स्थिति भी एय़र पॉल्यूशन के मामले में थोड़ी सुधरी है. फरीदाबाद (279), गाजियाबाद (268), ग्रेटर नोएडा (255), गुरुग्राम (276), ग्रेटर नोएडा (Greater Noida)  (255) और नोएडा (Noida) एक्यूआई 252 रहा. इससे वायु गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार देखा गया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वायु गुणवत्ता की निगरानी एजेंसी ‘सफर' ने अनुमान लगाया है कि स्थानीय और सतही हवाएं बुधवार से फिर धीमी हो सकती हैं. इससे वायु प्रदूषण में फिर बढ़ोतरी हो सकती है. अगले तीन दिन तक वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में रहने की आशंका है. सरकार बुधवार को समीक्षा बैठक के दौरान स्कूल, कॉलेज और शिक्षा संस्थानों को फिर से खोलने और अपने कर्मचारियों के लिए घर से काम करने के मुद्दे पर फैसला लेगी.