कोरोना से ठीक हुए मरीजों में असामान्य तौर पर बढ़ रहा ब्लड शुगर : AIIMS पटना

सर्वे के मुताबिक 3,000 उत्तरदाताओं में से, 480 या 16 फीसदी लोगों ने बताया कि उनके ब्लड शुगर का स्तर कोविड से उबरने के बाद बढ़ गया है. 840 या 28 फीसदी ने कोविड निगेटिव होने के बाद लंबे समय तक कमजोरी महसूस करने की सूचना दी. कुल 636 या 21.2 फीसदी लोगों ने बताया कि उन्हें कोविड के बाद थकान है.

कोरोना से ठीक हुए मरीजों में असामान्य तौर पर बढ़ रहा ब्लड शुगर : AIIMS पटना

पटना में एम्स द्वारा किए गए टेलीफोनिक सर्वे में ये खुलासा हुआ है.

पटना:

पटना में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में इस साल महामारी की दूसरी लहर के दौरान कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों में ब्लड शुगर के स्तर में असामान्य वृद्धि पाई गई है. पटना में एम्स द्वारा किए गए टेलीफोनिक सर्वे में ये खुलासा हुआ है. अस्पताल ने 3,000 ऐसे लोगों को कॉल किया था, जिनका COVID-19 का इलाज किया गया था और वे सभी कोविड से ठीक हो चुके थे. लंबे समय बाद उनसे उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा गया था.

पोस्ट-ट्रॉमा डिपार्टमेंट और कम्यूनिटी आउटरीच के हेड डॉ. अनिल कुमार ने कहा कि उन्होंने कोविड से ठीक हुए रोगियों से थकान और भूख न लगने समेत कम से कम 11 प्रकार के स्वास्थ्य मुद्दों के बारे में पूछा और उनके बयान रिकॉर्ड किए.

सर्वेक्षण का उपयोग ठीक हुए रोगियों को उचित आहार और व्यायाम जैसे सुधारात्मक कदमों के बारे में सलाह देने के लिए भी किया गया था जो उन्हें लंबे समय में मदद कर सकते हैं.

पटना AIIMS में कोवैक्सीन के ट्रायल में खुशी-खुशी शरीक हुए बच्चे, क्योंकि...

सर्वे के मुताबिक 3,000 उत्तरदाताओं में से, 480 या 16 फीसदी लोगों ने बताया कि उनके ब्लड शुगर का स्तर कोविड से उबरने के बाद बढ़ गया है. 840 या 28 फीसदी ने कोविड निगेटिव होने के बाद लंबे समय तक कमजोरी महसूस करने की सूचना दी. कुल 636 या 21.2 फीसदी लोगों ने बताया कि उन्हें कोविड के बाद थकान है.

सर्वे में माइनर एम्प्यूटेशन का एक केस सामने आया.

क्या कोवैक्सीन दो साल के बच्चों पर काम करेगी? AIIMS प्रमुख ने कहा- दो-तीन महीने प्रतीक्षा करें

सर्वेक्षण में उत्तरदाताओं ने जो कहा उसके बारे में कुछ विवरण यहां दिए गए हैं: खांसी (474 ​​या 15.8 फीसदी), सांस लेने में समस्या (150 या 5 फीसदी), गैंग्रीन (10 या 0.33 फीसदी), उच्च रक्तचाप (210 या 7 फीसदी), ब्लैक फंगस ( 5 या 0.16 फीसदी) और मानसिक समस्याएं जैसे चिंता और धड़कन (120 या 4 फीसदी).


हालांकि ब्लैक फंगस के मामले अब कम हो रहे हैं. एंटी-फंगल दवा एम्फोटेरिसिन बी की अनियमित आपूर्ति के कारण इसमें असामान्य वृद्धि हुई थी. यहां तक कि सर्जरी के बाद भी रोगियों को ऐसी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कोरोनोवायरस के प्रभाव का डॉक्टर और वैज्ञानिक अभी भी बारीकी से निगरानी कर रहे हैं जिसे अब "लॉन्ग कोविड" के रूप में जाना जाता है. दुनिया भर से ऐसी खबरें आ रही हैं कि निगेटिव टेस्ट करने के बाद भी लोगों में नई स्वास्थ्य समस्याएं सामने आ रही हैं.