CBSE ने कोर्स में 'कटौती' का बताया यह कारण, कहा- कदम की अलग ढंग से की जा रही व्‍याख्‍या..

बोर्ड ने दावा किया कि मौजूदा स्वास्थ्य आपात एवं अध्ययन में आ रही दिक्कतों के मद्देनजर पाठ्यक्रम में युक्तिसंगत कटौती का उद्देश्य छात्रों के बीच परीक्षा का तनाव कम करना है. 

CBSE ने कोर्स में 'कटौती' का बताया यह कारण, कहा- कदम की अलग ढंग से की जा रही व्‍याख्‍या..

प्रतीकात्‍मक फोटो

नई दिल्ली:

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेंकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने 2020-2021 के एकेडमिक सीजन में 9 से 12वीं तक के सिलेबस में कटौती के मामले में स्‍पष्‍टीकरण जारी किया है. सीबीएसई ने बुधवार को दावा किया कि स्कूली पाठ्यक्रम को युक्तिसंगत बनाने के कदम की ‘‘अलग'' ढंग से व्याख्या की जा रही है और यह कदम कोविड-19 संबंधी हालात (Covid-19 Pandemic) के मद्देनजर केवल 2020-2021 अकादमिक सत्र (Academic year 2020-2021) के लिए उठाया गया है. CBSE सचिव अनुराग त्रिपाठी ने कहा, ‘‘नौवीं से 12वीं कक्षा के पाठ्यक्रम में कटौती की अलग तरीके से व्याख्या की जा रही है. जो बातें की जा रही हैं, उसके विपरीत यह स्पष्ट किया जाता है कि 2020-21 अकादमिक सत्र के लिए करीब 190 विषयों के पाठ्यक्रम में 30 प्रतिशत की कटौती केवल एक बार के लिए की गई है.''


बोर्ड ने दावा किया कि मौजूदा स्वास्थ्य आपात एवं अध्ययन में आ रही दिक्कतों के मद्देनजर पाठ्यक्रम में युक्तिसंगत कटौती का उद्देश्य छात्रों के बीच परीक्षा का तनाव कम करना है. उसने कहा कि पाठ्यक्रम से जिन विषयों को हटाया गया है, केवल 2020-21 अकादमिक सत्र में उनसे कोई भी प्रश्न नहीं पूछा जाएगा. त्रिपाठी ने कहा, ‘‘स्कूलों को पाठ्यक्रम के संदर्भ में NCERT द्वारा तैयार किए गए वैकल्पिक अकादमिक कैलेंडर का पालन करने का भी निर्देश दिया गया है. इस तरह, जिन विषयों को हटाए जाने संबंधी जो गलत बात की जा रही है उन्हें वैकल्पिक अकादमिक कैलेंडर में पहले ही शामिल किया गया है. यह कैलेंडर बोर्ड के सभी मान्यता प्राप्त स्कूलों में पहले ही लागू है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सीबीएसई ने शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए कक्षा नौवीं से 12वीं के लिए 30 प्रतिशत पाठ्यक्रम को घटाते हुए मंगलवार को नया पाठ्यक्रम अधिसूचित किया। जिन विषयों को हटाया गया है, उनमें लोकतंत्र और विविधता, नोटबंदी, राष्ट्रवाद, धर्मनिरपेक्षता, पड़ोसी देशों के साथ भारत के संबंध और भारत में स्थानीय सरकारों का विकास शामिल है.