World Thalassaemia Day: थैलेसीमिया में खाना खाने के बाद न करें ये एक गलती, यहां हैं Thalassemic के लिए डाइट टिप्स

World Thalassaemia Day 2021: अगर आप थैलेसीमिक हैं तो आपको अपनी डाइट में क्या शामिल करना चाहिए और किन चीजों से परहेज करना चाहिए. क्योंकि यह शरीर में एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी डाइट काफी मायने रखती है.

World Thalassaemia Day: थैलेसीमिया में खाना खाने के बाद न करें ये एक गलती, यहां हैं Thalassemic के लिए डाइट टिप्स

Diet For Thalassemia: हर साल 8 मई को विश्व थैलेसीमिया दिवस मनाया जाता है.

खास बातें

  • विश्व थैलेसीमिया दिवस आज मनाया जा रहा है.
  • थैलेसीमिया में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए?
  • जानें डाइट में क्या शामिल करना चाहिए और किन चीजों से परहेज करना चाहिए.

World Thalassaemia Day 2021: नॉर्मली जैसी ही आपको पता चलता है कि आप थैलेसीमिक हैं तो आप फटाफट आयरन की गोलियां लेने शुरू कर देते हैं. जरूरी नहीं है कि वह आयरन टेबलेट्स आपकी बॉडी में अवशोषित हो रही हों, क्योंकि आपके शरीर में आयरन की कमी नहीं है आपको उस प्रोटीन में ऑक्सीजन की कमी है, जो कि आप नेचुरल खाना खाने से भी पूरी कर सकते हैं. कई लोगों का सवाल होता है कि थैलेसीमिया में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए? क्योंकि यह शरीर में एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी डाइट काफी मायने रखती है. माना जाता है कि आयरन-फोर्टीफाइड फूड्स जैसे अनाज, रेड मीट, हरी पत्तेदार सब्जियां और विटामिन सी से भरपूर फूड्स से परहेज करना थैलेसीमिक रोगियों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है, लेकिन क्या ये सच है?

अगर हां तो कितना कारगर हो सकता है. विश्व थैलेसीमिया दिवस पर ऐसे ही कई सवालों का जवाब वेलनेस एक्सपर्ट प्रीति सेठ ने बताए हैं, कि अगर आप थैलेसीमिक हैं तो आपको अपनी डाइट में क्या शामिल करना चाहिए और किन चीजों से परहेज करना चाहिए.

थैलेसीमिया क्या होता है? | What Is Thalassemia?

एक्सपर्ट प्रीति सेठ के अनुसार, सामान्यतौर पर बहुत लोग एनीमिक होते हैं लेकिन जरूरी नहीं कि वह थैलेसीमिक भी हों. थैलेसीमिया वह कंडिशन होती है जिसमें हमारी बॉडी जिसमें हमारी बॉडी में जो हीमोग्लोबिन है उसमें जो प्रोटीन है ग्लोबिन उसमें ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है. 

थैलेसीमिक वाले लोगों को क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए?

1. प्रीति सेठ का कहना है कि, थैलेसीमिया वाले लोग जब भी खाना खाएं उसके बाद आपको चाय और कॉफी नहीं लेनी है, क्योंकि कैफीन और टेनिन आपके शरीर में आयरन को अवशोषित होने से रोकता है.

2. ये बहुत जरूरी है कि आपको रोजाना गुड़ का सेवन करें, क्यों वह आयरन से भरपूर होता है.

3. अगर आप वेजिटेरियन हैं तो, आपको खाने में चुकंदर, इमली और किशमिश का सेवन बढ़ा सकते हैं. आप रात को मुनक्का भिगोकर सुबह इसका सेवन भी कर सकते हैं. ये सभी आयरन से भरपूर होते हैं, ये आपके शरीर में आयरन और ऑक्सीजन की मात्रा को भी बढ़ाते हैं.

4. आपको विटामिन ई से भरपूर फूड्स का सेवन करना चाहिए, इनमें नट्स और ऑलिव ऑयल आपके लिए अच्छे हो सकते हैं.

5. थैलेसीमिया वाले लोगों को कैल्शियम से भरपूर फूड्स का सेवन भी बढ़ाना चाहिए, ताकि आपकी हड्डियां मजबूत हों.

Third Wave of Corona: कोरोना की तीसरी लहर आनी तय! बचने के लिए करें ये!

थैलेसीमिक गर्भवतियों को रखना चाहिए इन बातों का ध्यान-

अगर आप थैलेसीमिया है और आप गर्भवती हैं तो आपको अपनी डाइट में आयरन से भरपूर चीजों का सेवन बढ़ाना चाहिए. आपको अपने खाने में चुकंदर, गाजर का सेवन बढ़ाना चाहिए. आप रात को सेब का जूस निकालकर उसका थोड़ा गर्म किया और उसमें थोड़ा दालचीनी मिलाकर उसे पी भी सकते हैं.


प्रीति सेठ का कहना है कि, माइनर थैलेसीमिक होना कोई बीमारी नहीं है आप अपनी डाइट से अपना ख्याल रख सकते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(यह लेख, वेलनेस एक्सपर्ट प्रीति सेठ से बातचीत पर आधारित है)