विज्ञापन
Story ProgressBack

WHO ने भारत में H9N2 बर्ड फ्लू के दूसरे मामले की पुष्टि की, यहां जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज के बारे में सब कुछ

Bird Flu Cases In India: पश्चिम बंगाल में चार साल के बच्चे में H9N2 बर्ड फ्लू वायरस का पता चला है, जो भारत में बर्ड फ्लू का दूसरा मामला है. WHO ने वायरस की लो पैथोजेनिसिटी के बारे में बताया, लेकिन निरंतर निगरानी की जरूरत पर जोर दिया है.

Read Time: 4 mins
WHO ने भारत में H9N2 बर्ड फ्लू के दूसरे मामले की पुष्टि की, यहां जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज के बारे में सब कुछ
Bird Flu In India: यह मामला भारत में बर्ड फ्लू के H9N2 स्ट्रेन से मानव संक्रमण का दूसरा मामला है.

H9N2 Bird Flu In India: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पुष्टि की है कि भारत के पश्चिम बंगाल में चार वर्षीय बच्चे को H9N2 बर्ड फ्लू वायरस से संक्रमित पाया गया है. बच्चे को फरवरी में स्थानीय अस्पताल की बाल चिकित्सा इंटेंस केयर यूनिट में भर्ती कराया गया था, जहां उसे सीवर रेस्पिरेटरी प्रोब्लम्स, तेज बुखार और पेट में क्रैम्प्स की शिकायत थी. डायग्नोस और उपचार मिलने के बाद बच्चे को तीन महीने बाद छुट्टी दे दी गई.

यह भी पढ़ें: इन 6 लोगों के लिए किसी अमृत से कम नहीं है किशमिश का पानी, खाली पेट सेवन करने मिलते हैं गजब के लाभ

डब्ल्यूएचओ ने बताया कि बच्चा घर और आस-पास के इलाके में पोल्ट्री के संपर्क में आया था. परिवार के किसी अन्य सदस्य या संपर्क में श्वसन संबंधी लक्षण नहीं दिखे हैं. रिपोर्टिंग के समय बच्चे के टीकाकरण की स्थिति और एंटीवायरल उपचार के बारे में विवरण उपलब्ध नहीं था. यह मामला भारत में बर्ड फ्लू के H9N2 स्ट्रेन से मानव संक्रमण का दूसरा मामला है, इससे पहले 2019 में पहला मामला सामने आया था. जबकि H9N2 आम तौर पर हल्की बीमारी का कारण बनता है, WHO ने चेतावनी दी है कि कई क्षेत्रों में पोल्ट्री में वायरस के प्रचलन को देखते हुए छिटपुट मानव मामले सामने आ सकते हैं.

H9N2 बर्ड फ्लू स्ट्रेन क्या है? | What Is The H9N2 Bird Flu Strain?

H9N2 स्ट्रेन एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस का एक सब टाइप है, जो आमतौर पर पक्षियों में पाया जाता है. यह भारत में H9N2 का दूसरा मामला है. संक्रामक जानवरों के साथ सीधा संपर्क या दूषित वातावरण के साथ अप्रत्यक्ष संपर्क वायरस के फैलने के दो तरीके हैं. H9N2 के सामान्य लक्षण अन्य वायरल संक्रमणों से मिलते-जुलते हैं. व्यक्तियों को बुखार, खांसी, गले में खराश, बहती या भरी हुई नाक और सिरदर्द हो सकता है. अन्य लक्षणों में मांसपेशियों में दर्द, थकान शामिल हो सकते हैं. कुछ मामलों में सांस लेने में कठिनाई और निमोनिया जैसे गंभीर लक्षण हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें: जवानी में ही सफेद हो रहे हैं बाल, तो इन दो चीजों को लगाकर कर सकते हैं उन्हें कुदरती काला, जानें विधि

यह कभी-कभी ज्यादा गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है, खासकर कमजोर इम्यून सिस्टम या इंटरनल हेल्थ कंडिशन वाले व्यक्तियों में.

"एवियन इन्फ्लूएंजा के अन्य सब टाइप, जैसे H5N1 और H7N9 की तुलना में H9N2 आमतौर पर कम संक्रामक होता है और मनुष्यों में हल्की बीमारी का कारण बनता है. H5N1 और H7N9 गंभीर श्वसन संबंधी बीमारियों का कारण बन सकते हैं और संक्रमित व्यक्ति की मृत्यु दर को बढ़ा सकते हैं.

H9N2 बर्ड फ्लू का इलाज | Treatment of H9N2 Bird Flu

H9N2 एवियन इन्फ्लूएंजा के प्रबंधन और उपचार के लिए कई तकनीकों का उपयोग किया जाता है. ज़ानामिविर (रेलेंज़ा) और ओसेल्टामिविर (टैमीफ्लू) जैसी एंटीवायरल दवाएं मददगार हो सकती हैं, खासकर अगर बीमारी के दौरान जल्दी इस्तेमाल की जाएं. सहायक देखभाल प्रदान करना भी जरूरी है, जिसमें आराम, पर्याप्त हाइड्रेशन और बुखार और श्वसन समस्याओं का उपचार शामिल है.

गंभीर परिस्थितियों में रोगी को संक्रमण को पर्याप्त रूप से मैनेज करने के लिए जरूरी इलाज के लिए इंटेंस केयर और रेस्पिरेटरी हेल्प के लिए अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत हो सकती है.

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
किन लोगों को नहीं खानी चाहिए राजमा, ये 5 तो बिल्कुल न करें सेवन, वर्ना दिक्कत में आ जाएंगे आप
WHO ने भारत में H9N2 बर्ड फ्लू के दूसरे मामले की पुष्टि की, यहां जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज के बारे में सब कुछ
किस स्टेज पर है ब्रेस्ट कैंसर? इन तरीकों से डॉक्टर लगाते हैं इसका पता, कैंसर का कौन सा स्टेज है सबसे खतरनाक
Next Article
किस स्टेज पर है ब्रेस्ट कैंसर? इन तरीकों से डॉक्टर लगाते हैं इसका पता, कैंसर का कौन सा स्टेज है सबसे खतरनाक
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;