विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 05, 2018

ओरल सेक्‍स से होता है इन STD का खतरा... भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम

ओरल सेक्स से फैलने वाले एसटीडी को रोकने का एकमात्र तरीका यौन संबंधों के दौरान कॉन्‍डोम का उपयोग करना है.

Read Time: 2 mins
ओरल सेक्‍स से होता है इन STD का खतरा... भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम

यौन संचारित बीमारियां (एसटीडी) ओरल सेक्स के जरिए भी फैल सकती हैं. वास्तव में, इसे गुप्‍त रोग भी कहा जा सकता है. ओरल सेक्‍स के दौरान जब मुंह, जीभ या होंठ का उपयोग किया जाता है तो एसटीडी संक्रमण होने का खतरा पैदा हो सकता है. ओरल सेक्स से फैलने वाले एसटीडी को रोकने का एकमात्र तरीका यौन संबंधों के दौरान कॉन्‍डोम का उपयोग करना है. आइए आपको बताते हैं ओरल सेक्स के माध्यम से होने वाले एसटीडी के कारणों और लक्षणों के बारे में:

1. क्लैमाइडिया
क्लैमिडिया गले, जननांगों और मूत्राशय को प्रभावित करता है. यह एक एसटीडी रोग है जो ओरल सेक्स के माध्यम से फैलता है. गले में खराश के अलावा क्लैमिडिया के कोई और लक्षण नहीं मिलते. 

फीमेल कॉन्‍डोम इस्‍तेमाल करते वक्‍त ध्‍यान रखें ये बातें...

2. ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी)
यह संक्रमण ओरल और योनि सेक्स दोनों के माध्यम से फैल सकता है. यह गले, जननांग, गर्भाशय और मुंह को प्रभावित करता है. कभी-कभी, एचपीवी संक्रमण के कोई लक्षण नहीं दिखते, लेकिन इसके सामान्य लक्षणों में सांस लेने में दिक्‍कत, बात करने में कठिनाई और गले में खराश शामिल है. एचपीवी गर्दन या सिर के कैंसर का कारण बन सकता है. एचपीवी का इलाज नहीं होता है. 

3. गोनोरिया4. हर्पीज सिम्प्लेक्स वायरस (एचएसवी)5. सिफलिस6. मानव इम्यूनोडेफिशियेंसी वायरस (एचआईवी)यौन जीवन से जुड़ी अन्य समस्याओं के समाधानों और खबरों के लिए क्लिक करें.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Pregnancy Risk Factor: इन 7 बीमारियों की वजह से प्रेगनेंसी कंसीव करने में आती है दिक्कत, प्लान करने से पहले करा लें टेस्ट
ओरल सेक्‍स से होता है इन STD का खतरा... भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम
Why is iron deficiency anemia common in adolescent girls, get your answer in Hindi | Khoon ki kami | iron ki kami
Next Article
क्यों ज्यादातर लड़कियां ही होती हैं एनिमिया की शिकार? जानें क्या हैं आयरन की कमी से बचने के उपाय
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;