विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 26, 2022

Sawan Shivratri 2022: सावन शिवरात्रि पर वर्षों बाद बन रहा है शिव-गौरी दुर्लभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Sawan Shivratri 2022: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस बार सावन शिवरात्रि पर शिव-गौरी का दुर्लभ संयोग बन रहा है. यह शुभ योग भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा के लिए अत्यंत खास माना जा रहा है.

Read Time: 13 mins
Sawan Shivratri 2022: सावन शिवरात्रि पर वर्षों बाद बन रहा है शिव-गौरी दुर्लभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
Sawan Shivratri 2022: सावन शिवरात्रि का व्रत इस 26 जुलाई, मंगलवार को रखा जाएगा.

Sawan Shivratri 2022 Shubh Yog: सावन का पवित्र महीना चल रहा है. प्रत्येक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि (Masihk Shivratri) का व्रत रखा जाता है. इस बार सावन मास की शिवरात्रि 26 जुलाई, 2022, मंगलवार को मनाई जाएगी. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस बार की सावन की शिवरात्रि (Sawan Shivratri 2022) बेहद खास रहने वाली है. दरअसल इस बार सावन शिवरात्रि (Sawan Shivratri) के दिन शिव-गौरी संयोग (Shiv Gauri Yog) बन रहा है. ऐसे में इस शुभ संयोग में भगवान शिव की पूजा (Shiv Puja) करने से भगवान शिव और मां गौरी की विशेष कृपा प्राप्त होगी. आइए जानते हैं सावन शिवरात्रि शुभ मुहूर्त, शुभ योग और पूजा विधि के बारे में.

Advertisement

सावन शिवरात्रि 2022 शुभ संयोग | Sawan Shivratri Shubh Yog

इस साल सावन शिवरात्रि 26 जुलाई, मंगलवार को है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस दिन शिव-गौरी (Shiv Gauri Yog) का अत्यंत मंगलकारी योग बन रहा है. इस शिवरात्रि (Sawan Shivratri) भगवान शिव की पूजा (Shiv Puja Vidhi) के अलावा मां गौरी की भी विशेष पूजा होगी. इस दिन मंगला गौरी व्रत (Mangla Gauri Vrat) भी रखा जाएगा. मंगला गौरी व्रत में मां पर्वत की पूजा का विधान है. ज्योतिष शास्त्र (Astrology) के जानकारों की मानें तो इस सावन मास में शिवरात्रि और मंगला गौरी व्रत (Mangla Gauri Vrat) का संयोग वर्षों बाद बन रहा है.

Sawan Somwar Vrat 2022: सावन का दूसरा सोमवार क्यों है खास, जानें शुभ योग और पूजा के लिए शुभ मुहूर्त

Advertisement

सावन शिवरात्रि 2022 शुभ मुहूर्त | Sawan Shivratri 2022 Shubh Muhurat

पंचांग के मुताबिक इस बार सावन की शिवरात्रि 26 जुलाई, मंगलवार की शाम 6 बजकर 45 मिनट से 27 जुलाई को रात 9 बजकर 10 मिनट तक रहेगी. ऐसे में भगवान शिव का जलाभिषेक दोनों दिन किया जाएगा. शिवरात्रि में चारों प्रहर की पूजा का विशेष महत्व है. इस दिन चारों प्रहर की पूजा करने से धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष इन चारों पुरुषार्थ की प्राप्ति होती है. इस बार सावन शिवरात्रि के दिन भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा के लिए सबसे शुभ मुहूर्त शाम 6 बजे से 7 बजकर 30 मिनट तक का है. इस बार जलाभिषेक में भद्रा की बाधा भी नहीं होगी.

Advertisement

Som Pradosh Vrat 2022: आज है सावन का पहला प्रदोष व्रत, जानें पूजा-मुहूर्त और व्रत के नियम

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

मॉनसून स्किन केयर टिप्स बता रही हैं ब्यूटी एक्सपर्ट भारती तनेजा

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Lord Vishnu Puja: भगवान विष्णु की पूजा करते वक्त जरूर करें ये आरती, पूरे होंगे सभी मनोरथ
Sawan Shivratri 2022: सावन शिवरात्रि पर वर्षों बाद बन रहा है शिव-गौरी दुर्लभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
सुबह नहीं दोपहर में करें घटस्थापना, 5 साल बाद  3 राजयोगों के साथ बना है यह अद्भुत संयोग
Next Article
सुबह नहीं दोपहर में करें घटस्थापना, 5 साल बाद 3 राजयोगों के साथ बना है यह अद्भुत संयोग
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;