जानिए किस देवता की कितनी बार करें आरती, ये हैं नियम व महत्व

मान्यता है कि जिस घर में दोनों समय आरती होती है, वहां भगवान का वास होता है और भगवान अत्यंत प्रसन्न होते हैं. आज हम जानेंगे भगवान की आरती करने का सही तरीका और महत्व.

जानिए किस देवता की कितनी बार करें आरती, ये हैं नियम व महत्व

जानें किस भगवान की कितनी बार करनी चाहिए आरती

नई दिल्ली:

माना जाता है कि जिस घर में सुबह-शाम प्रभु की पूजा व स्मरण किया जाता है, उस घर में हमेशा भगवान की आसीम कृपा बनी रहती है. मान्यता है कि जिस घर में दोनों समय पूरी आस्था व श्रद्धा भाव के साथ भगवान की आरती अथवा अर्चन होता है, वहां सदैव प्रभु का वास रहता है. आरती को निरांजन या निराजना भी कहा जाता है. बता दें कि आरती अत्यंत प्राचीन शब्द है, जिसके महत्व के बारे में सबसे पहले 'स्कन्द पुराण' (Skand Puran) में की गयी है. स्कन्द पुराण का अर्थ है, प्रभु की उपासना के बाद उनका गान अथवा बखान करना चाहिए, उनका स्मरण करना. शास्त्रों में प्रभु की भक्ति को सर्वश्रेष्ठ माना गया है. सदैव प्रभु के पूजा-पाठ, अर्चन-वंदन, भजन-कीर्तन, हवन के बाद आरती की जाती है. वहीं, पूजन में जो त्रुटि रह जाती है तो उसकी क्षमा याचना अथवा पूर्ति के लिए आरती की जाती है. आज हम आपको बताएंगे भगवान की आरती करने का सही तरीका और महत्व.

ofsd3n1g

आरती का महत्व

स्कंद पुराण के अनुसार, भगवान श्री हरि विष्णु (Lord Vishnu) ने कहा है कि जो भक्त घी के दीपक से आरती करता है, वो कोटि कल्पों तक स्वर्गलोक में निवास करता है. वहीं, जो भी व्यक्ति मेरे समक्ष हो रही आरती के दर्शन करता है, उसे परमपद की प्राप्ति होती है. इसके अलावा अगर कोई व्यक्ति कपूर से आरती करता है तो उसे अनंत में प्रवेश मिलता है.

otfdkrbo

कैसे करें आरती

  • हमेशा देवी-देवताओं की आरती ऐसे घुमाना चाहिए, जिससे कि 'ऊं' वर्ण की आकृति बनती हो.
  • ख्याल रखें कि हमेशा हवन-अनुष्ठान, पूजा-पाठ के आखिर में देवी-देवताओं की आरती उतारें.
  • हमेशा सुबह और शाम की पूजा-पाठ व आरती का समय निर्धारित करें.
  • आरती करते समय ध्यान रखें कि सर्वप्रथम चरणों की चार बार, नाभि की दो बार, मुख की एक बार आरती करने के बाद पुनः समस्त अंगों की सात बार आरती करनी चाहिए.
  • आरती के बाद जल को भगवान के चारों ओर घुमा कर उनके चरणों में निवेदन करना चाहिए.    
  • आरती के उपरान्त थाल में रखे हुए पुष्प को समर्पित करना चाहिए.
  • इसके बाद कुमकुम का तिलक लगाना चाहिए.
  • एक बात का अवश्य ध्यान रखें कि आरती लेने वाले को थाल में कुछ दक्षिणा जरूर रखनी चाहिए. 

7n4u3eno

आरती करने के नियम | Aarti Ke Niyam

  • किसी भी भगवान की पूजा के बिना आरती पूरी नहीं मानी जाती.
  • सर्वप्रथम पूजनीय गौरी गणेश चतुर्थी तिथि के अधिष्ठाता हैं, इसलिए भगवान श्री गणेश जी की चार बार आरती उतारनी चाहिए.
  • सभी देवी-देवताओं के लिए सात बार आरती करने का महत्व है.
  • भगवान श्री हरि विष्णु की बारह बार आरती उतारनी चाहिए.
  • भगवान भोलेनाथ की ग्यारह बार आरती उतारना शुभ माना जाता है.
  • मां दुर्गा जी की नौ बार आरती उतारनी चाहिए.
  • सात रश्मियों सूर्य देवता के रथ में सात घोड़े लगे रहते हैं, इसलिए सूर्य भगवान की सात बार आरती उतारनी चाहिए.
  • हमेशा पूजा-पाठ या फिर भजन-कीर्तन, मंत्र जाप व प्रार्थना के बाद आरती की जाती है.
  • अगर आरती करने वाला दीपक पंचमुखी हो तो सर्वोत्तम माना जाता है.
  • आरती लेते समय सिर हमेशा ढंक लेना चाहिए, खासतौर पर महिलाओं को इस बात का ध्यान रखना चाहिए.
  • आरती लेते समय ज्योति के ऊपर दोनों हाथों को घुमाकर आंखों व सिर के मध्य भाग पर स्पर्श करें.
  • आरती लेने के कुछ देर बाद तक हाथ न धोये, इस बाद का ख्याल रखें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)