Guru Purnima 2021: गुरु पूर्णिमा पर टीचर्स, दोस्त और बॉस को ऐसे दें शुभकामनाएं, FB- व्हाट्सएप पर भेजें ये खास मैसेज

Guru Purnima 2021: गुरु पूर्णिमा के मौके पर जानें- अपने गुरुओं, शिक्षकों, दोस्त और बॉस को कैसे दे सकते हैं शुभकामनाएं.

Guru Purnima 2021: गुरु पूर्णिमा पर टीचर्स, दोस्त और बॉस को ऐसे दें शुभकामनाएं, FB- व्हाट्सएप पर भेजें ये खास मैसेज

Guru Purnima 2021 : गुरु पूर्णिमा पर टीचर्स, दोस्त और बॉस को ऐसे दें शुभकामनाएं, FB- व्हाट्सएप पर भेजें ये खास मैसेज

नई दिल्ली:

Guru Purnima 2021: इस साल आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरू पूर्णिमा 24 जुलाई को मनाई जाएगी.  भारत में गुरु पूर्णिमा का दिन सबसे शुभ दिनों में से एक है, जिसे सम्मान देने और अपने गुरु या शिक्षक को याद करने के लिए मनाया जाता है. गुरु वह होता है जो अपने शिष्यों को अज्ञान से प्रकाश की ओर ले जाता है और उन्हें सही मार्ग दिखाता है. एक गुरु ज्ञान और जागरूकता प्रदान करता है. जो शिष्य या छात्र पूरी लगन और शिद्दत के साथ गुरु की हर बात मानते हैं वह जीवन में हमेशा सफलता हासिल करते हैं.  आइए  जानते हैं इस मौके आप अपने गुरुओं, शिक्षकों, दोस्त और बॉस को शुभकामनाएं दे सकते हैं.

Guru Purnima 2021 Date: गुरु पूर्णिमा कब है? आप भी जानें तारीख और गुरू-शिष्य की रोचक पौराणिक कथाएं

गुरुओं, शिक्षकों को ऐसे दें शुभकामनाएं

सबसे पहले आपको बता दें, गुरु पूर्णिमा देश भर में त्योहारों के साथ चातुर्मास या चार शुभ महीनों की शुरुआत का प्रतीक है.

"जब कोई सच्चे गुरु को पाता है, तो वह आधी दुनिया को जीत लेता है. गुरु पूर्णिमा दिवस की शुभकामनाएं"

"आपके शब्दों ने मुझे सफलता के उच्च स्तर पर धकेल दिया है। इस विशेष दिन पर सब कुछ के लिए धन्यवाद"

"आपने मुझे सही तरीके से जीने के लिए दिखाया. मुझे वह बनाने के लिए धन्यवाद जो मैं हूं. गुरु पूर्णिमा दिवस की शुभकामनाएं"

"आपके आशीर्वाद ने मेरे जीवन को समृद्ध किया धन्यवाद और आपको गुरु पूर्णिमा की बहुत बहुत शुभकामनाएं".

ये है गुरु पूर्णिमा के टॉप 10 कोट्स


- "यदि आपको एक अच्छा गुरु मिल गया है तो आपको पता होना चाहिए कि आपका जीवन कई अच्छे कारणों से व्यवस्थित है. हैप्पी गुरु पूर्णिमा

-"गुरु वह प्रकाश है जिसकी हमें आवश्यकता है, वह वह सहारा है जिसकी हम लालसा करते हैं, वह वह जादू है जिसके लिए हम प्रार्थना करते हैं. मेरे लिए सबसे खूबसूरत आशीर्वाद गुरु को गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं.

- "मुझे पता है कि मैं गलत नहीं हो सकता क्योंकि मेरे पास मेरे गुरु हैं जो हमेशा मुझ पर नज़र रखते हैं और मुझे सही दिशा में मार्गदर्शन करते हैं. गुरु पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं.

"हर कोई इतना भाग्यशाली नहीं होता कि उसे जीवन में एक ऐसा गुरु मिल जाए जो उसका मार्गदर्शन कर सके, लेकिन मैं भाग्यशाली हूं कि आपके पास हूं. हैप्पी गुरु पूर्णिमा."

- “एक गुरु में शक्ति है की वो किसी के जीवन की दिशा बदल कर उसकी दिशा बदल दे। भाग्यशाली हु मैं की ऐसा एक गुरु मेरे साथ है. गुरु पूर्णिमा के पर्व पर सदर प्रणाम."

- गुरु ऐसा इंसान है जो हमें खुद पर विश्वास करना सिखाता है और जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है. गुरु पूर्णिमा की शुभ कामनाएं.

“गुरु पूरब के दिन हम सब करें आराधना अपने गुरु की जिसे हमने जिंदगी के हर पड़ाव पर सही दिशा दीखाई है. गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई.

- हम सभी को आभारी होना चाहिए कि किसने हमें खुद से मिलवाया. शुभ गुरु पूर्णिमा.

- जब आपके आशीर्वाद और शिक्षाओं की रोशनी की किरण होगी तो आपके जीवन में कोई अंधेरा नहीं होगा. शुभ गुरु पूर्णिमा!

दोस्तों को दें शुभकामनाएं

- हर कोई इतना भाग्यशाली नहीं होता कि उसे एक अच्छा गुरु मिल जाता है और यदि आप हैं तो सुनिश्चित करें कि आप उसे चाहते हैं. हैप्पी गुरु पूर्णिमा.

- "गुरु पूर्णिमा के अवसर पर, मैं एक मित्र को हार्दिक शुभकामनाए भेज रहा हूं जो जीवन भर मेरे मार्गदर्शक रहे हैं।"

बॉस को ऐसे दें गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

- "आप को गुरु पूर्णिमा की बहुत बहुत शुभकामनाएं बॉस. आप मेरे गुरु हैं जिन्होंने मुझे चलने और मुझे लक्ष्य हासिल करने का सही रास्ता दिखाया है."

- "मेरे प्यारे माता-पिता के लिए, जो मेरे पहले गुरु रहे हैं और हमेशा सर्वश्रेष्ठ गुरु बने रहेंगे. आप दोनों को गुरु पूर्णिमा की बहुत बहुत बधाई.

- अपने माता-पिता में अपने शिक्षक को ढूंढना सबसे खूबसूरत चीजों में से एक है. मेरे प्यारे माता-पिता को गुरु पूर्णिमा की बहुत-बहुत शुभकामनाएं.

भारत में गुरु पूर्णिमा हमेशा गुरु-शिष्य परंपरा या शिक्षकों और उनके छात्रों के बीच अद्वितीय संबंध के लिए बहुत खास रही है.

रामकृष्ण परमहंस के मार्गदर्शन में, स्वामी विवेकानंद ने जीवन में अपना उद्देश्य पाया और दुनिया के सामने हिंदू धर्म, भारतीय संस्कृति और लोकाचार का परिचय दिया.


स्वामी विवेकानंद ने  साल 1893 में शिकागो में विश्व धर्म संसद में अपने प्रसिद्ध भाषण में कहा, "मुझे एक ऐसे धर्म से संबंधित होने पर गर्व है जिसने दुनिया को सहिष्णुता और सार्वभौमिक स्वीकृति दोनों सिखाया है. हम न केवल सार्वभौमिक सहिष्णुता में विश्वास करते हैं, बल्कि हम सभी धर्मों को सत्य मानते हैं."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com