"शिक्षक ने मटके से पानी पीने पर पीटा था..." : NDTV से बोले मृत छात्र के परिजन

दलित छात्र इंद्र कुमार को 20 जुलाई को स्कूल में मटके को छूने के आरोप में एक शिक्षक ने पीटा था. शनिवार (13 अगस्त) को अहमदाबाद के एक अस्पताल में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी.

खास बातें

  • नौ वर्षीय दलित छात्र को शिक्षक ने पीटा था.
  • छात्र की उपचार के दौरान मौत हो गई थी.
  • आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया गया है.
जोधपुर:

जालोर (Jalore) में कथित रूप से शिक्षक की पिटाई के बाद सात अलग-अलग अस्पतालों में इलाज कराने के बावजूद नौ साल के अनुसूचित जाति के लड़के को बचाया नहीं जा सका. वहीं NDTV ने बच्चे के परिवार वालों से बातचीत की. जिसमें परिजनों ने कहा कि उनका बच्चा तीसरी कक्षा में पढ़ता था. 20 जुलाई को वह स्कूल गया था. जहां पर मटके से पानी पीने को लेकर उसे शिक्षक ने बुरी तरह से मारा. परिवार के मुताबिक उन्हें शाम को बच्चे की पिटाई की जानकारी मिली. बच्चे को इतनी बुरी तरह से पीटा गया था कि उसके हाथ पैर ने काम करना छोड़ दिया था. उसे लगभग सात अस्पतालों में ले जाया गया. लेकिन बचाया नहीं जा सका.

ये सवाल करने पर कि स्कूल का कहना है कि बच्चों की आपस में लड़ाई हुई थी... इसपर परिवार ने कहा कि प्रशासन पर दबाव है. मटके से पानी पीने पर ही पिटाई की गई थी. वहीं सरकार से मिली मदद पर परिवार ने कहा कि कोई मदद नहीं मिली है. यहां लाठीचार्ज की गई हैं. हमारी मांग थी कि हमारे रिश्तेदारों को अंतिम संस्कार में आने दिया जाए. लेकिन प्रशासन ने लाठीचार्ज कर दी. जिसमें कई लोगों को चोट आई है. वहीं परिवार ने न्याय की मांग सरकार से की है.

ये भी पढ़ें- कोयला खनन पट्टा: न्यायालय ने अड़ियल रुख के लिये केंद्र पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया

बता दें कि नौ वर्षीय दलित छात्र इंद्र कुमार को 20 जुलाई को स्कूल में मटके को छूने के आरोप में एक शिक्षक ने पीटा था. शनिवार (13 अगस्त) को अहमदाबाद के एक अस्पताल में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी. आरोपी शिक्षक छैल सिंह (40) को गिरफ्तार कर लिया गया है और राज्य सरकार ने पीड़ित परिवार के सदस्यों के लिये पांच लाख रुपये की राहत की घोषणा की है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं मरे दलित छात्र के परिजनों से मिलने जा रहे भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को मंगलवार शाम पुलिस ने जोधपुर हवाई अड्डे पर रोक लिया और लगभग तीन घंटे तक हिरासत में रखा था. पुलिस के अनुसार, जालोर नहीं जाने का आश्वासन देने के बाद आजाद को शाम 7.30 बजे हवाई अड्डे से निकलने की अनुमति दी गई. हालांकि, आजाद ने हवाई अड्डे से निकलते समय संवाददाताओं से कहा कि वह परिवार से मिले बगैर नहीं लौटेंगे.