दिल्ली पुलिस ने गोगी, लॉरेंस बिश्नोई और अशोक प्रधान गैंग के चार शार्प शूटर गिरफ्तार किये

गोगी गैंग के गुर्गे टिल्लू ताजपुरिया गैंग के लोगों को मारने की साज़िश रच रहे हैं.

दिल्ली पुलिस ने गोगी, लॉरेंस बिश्नोई और अशोक प्रधान गैंग के चार शार्प शूटर गिरफ्तार किये

इनके पास से 9 पिस्टल और 123 कारतूस भी बरामद हुए हैं.

नई दिल्ली :

रोहिणी कोर्ट में हाल ही में हुए शूटआउट में दिल्ली का टॉप गैंगस्टर गोगी मारा गया, उसे मरवाने का आरोप दिल्ली की मंडोली जेल में बन्द गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया पर लगा है. अब गोगी गैंग के गुर्गे टिल्लू ताजपुरिया गैंग के लोगों को मारने की साज़िश रच रहे हैं. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ऐसे ही 4 शार्प शूटरों को गिरफ्तार किया है, इनके पास से 9 पिस्टल और 123 कारतूस भी बरामद हुए हैं.

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव के मुताबिक गिरफ्तार लोगों में अनुज, हर्ष, सागर राणा और सुमित शामिल हैं. ये लोग हरियाणा, पंजाब और यूपी में हत्या के लगभग 15 मामलों और हत्या के प्रयास, डकैती, कारजैकिंग, जबरन वसूली आदि के 30 से अधिक मामलों में शामिल हैं.


पुलिस के मुताबिक जितेंद्र गोगी और टिल्लू ताजपुरिया के बीच लंबे समय से गैंगवार चल रहा है और इन गैंगवार में दर्जनों लोगों की जान जा चुकी है, अब वर्चस्व हासिल करने के लिए इन दोनों गिरोहों ने अन्य अंतर-राज्यीय गैंगस्टरों के साथ गठबंधन किया है और गठजोड़ किया है. हाल ही में मारे गए गैंगस्टर गोगी गैंग ने काला जठेड़ी, लॉरेंस बिश्नोई, संपत नेहरा, अशोक प्रधान, हाशिम बाबा जैसे गैंगस्टर है, जबकि टिल्लू गैंग को नीरज बवाना, सुनील राठी, नवीन बाली, नासिर आदि का समर्थन प्राप्त है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पकड़े गए आरोपी नीरज बवाना, नवीन बाली गिरोह के सदस्यों मोनू बजितपुरिया, विशाल मान और नरेश ताजपुरिया को मारने को मारने की फिराक में थे. सभी आरोपियों को 1 अक्टूबर को दिल्ली के पुल प्रह्लादपुर इलाके से पकड़ा गया, जबकि इनके 2 साथी कार में सवार होकर फरार होने में सफल रहे. पुलिस के मुताबिक रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टर गोगी की हत्या के बाद उसके गुर्गे गैंगस्टर रोहित मोई के निर्देश पर आरोपी दीपक तीतर और गुलशन भारद्वाज उर्फ ​​गुल्लू ने अपने साथियों के साथ टिल्लू गैंग से जुड़े गैंगस्टर विशाल मान, मोनू बजितपुरिया और नरेश ताजपुरिया की हत्या की योजना बनाई थी. आरोपी व्यक्तियों से अन्य मामलों में उनकी संलिप्तता के लिए पूछताछ की जा रही है और उनके सहयोगियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं. आरोपी व्यक्तियों को संबंधित अदालत के समक्ष पेश किया गया और उन्हें 10 दिन के पुलिस कस्टडी रिमांड पर भेज दिया गया है.