कोहली के पक्ष में आए मोहम्मद शमी, आलोचकों को लताड़ा

विराट कोहली को लेकर देश के 31 वर्षीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने अपना विचार साझा किया है

कोहली के पक्ष में आए मोहम्मद शमी, आलोचकों को लताड़ा

कोहली के पक्ष में आए मोहम्मद शमी

खास बातें

  • कोहली के पक्ष में आए मोहम्मद शमी
  • आलोचकों को जमकर लताड़ा
  • कोहली के लिए कही दिल की बात
नई दिल्ली :

हाल ही में भारतीय टीम (Indian Team) के टेस्ट प्रारूप के कप्तानी पद से इस्तीफा देने के बाद विराट कोहली (Virat Kohli) की चर्चा क्रिकेट के गलियारों में जोरों पर है. दरअसल कोहली ने आईसीसी पुरूष T20 वर्ल्ड कप 2021 के शुरू होने से पहले ऐलान करते हुए कहा था कि वह इस टूर्नामेंट के बाद टीम इंडिया के कप्तानी पद से इस्तीफा देंगे. इस दौरान वह भारतीय टीम की टेस्ट और वनडे प्रारूप में अगुवाई करते रहना चाहते थे. 

हालांकि चयनकर्ताओं की एक अलग ही राय थी. चयनकर्ता चाहते थे कि वाइट बॉल क्रिकेट का कप्तान एक हो. ऐसी स्थिति में T20 प्रारूप के बाद रोहित शर्मा को वनडे प्रारूप का भी अगला कप्तान नियुक्त किया गया. यही नहीं आउट ऑफ फॉर्म चल रहे रहाणे की जगह रोहित को अगला टेस्ट उपकप्तान भी नियुक्त किया गया. बीसीसीआई के इस फैसले से कोहली नाराज नजर आए. उन्होंने अफ्रीकी टीम के खिलाफ संपन्न हुए टेस्ट श्रृंखला के पश्चात् इस प्रारूप से भी अपने कप्तानी पद से इस्तीफा दे दिया. 

RCB के साथी खिलाड़ी ने पीटरसन से पूछा अजीब सवाल, स्टार क्रिकेटर ने भी दिया मजेदार अंदाज में जवाब


कोहली के बाद टीम इंडिया का अगला टेस्ट कप्तान कौन होगा इस पर सवाल बना हुए है. इस बीच कुछ लोग पिछले कुछ सालों में कोहली के शतक नहीं लगा पाने पर उनके बल्लेबाजी कौशल पर सवाल खड़ा कर रहे हैं. लोगों के इन्ही सवाल जवाब के बीच टीम इंडिया के 31 वर्षीय अनुभवी तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) ने बड़ा बयान दिया है. 

स्टार तेज गेंदबाज ने कोहली का समर्थन करते हुए उनके आलोचकों को जमकर लताड़ा है. शमी का मानना है खिलाड़ियों के काबलियत की पहचान उनके द्वारा बनाए गए शतकों की संख्या से नहीं होती है. दिग्गज तेज गेंदबाज ने कहा, क्या हुआ यदि कोहली के बल्ले से शतक नहीं निकल रहा है. ऐसा नहीं है कि वह रन नहीं बना रहे हैं. हाल ही में उन्होंने कई बेहतरीन अर्धशतकीय पारियां खेली हैं. 

IND vs WI: महज एक शतक और किंग कोहली बन जाएंगे क्रिकेट की दुनिया के बेताज बादशाह

उन्होंने कहा, मैच के दौरान 50-60 रन की पारी भी काफी महत्वपूर्ण होती है. इसलिए उनके बल्लेबाजी कौशल पर सवाल उठाना बंद कीजिए. भारतीय तेज गेंदबाज का कोहली के कप्तानी के बारे में मानना है कि उनकी एनर्जी से टीम के अन्य खिलाड़ियों में जोश भर जाता था. वह सभी गेंदबाजों का पूरा सहयोग करते थे और उन्हें अपनी काबलियत दिखाने का मौका देते थे.

क्या क्रिकेट में कोच का काम नहीं? क्या सचमुच काम बिगाड़ रहे हैं कोच?

. ​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com