Ind vs Eng: 'मैकुलम हैं की मानते नहीं', आखिरी टेस्ट से पहले बैजबॉल को लेकर दे दिया बड़ा बयान, फैंस के बीच मची हलचल

Brendon McCullum on Bazball: भारत 7 मार्च से धर्मशाला में होने वाले आखिरी गेम के साथ श्रृंखला में 3-1 से आगे है

Ind vs Eng: 'मैकुलम हैं की मानते नहीं', आखिरी टेस्ट से पहले बैजबॉल को लेकर दे दिया बड़ा बयान, फैंस के बीच मची हलचल

Brendon McCullum on Bazball vs India

Brendon McCullum: इंग्लैंड क्रिकेट टीम के मुख्य कोच ब्रेंडन मैकुलम (Brendon McCullum on Bazball) ने भारत के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज हारने के बावजूद 'बैज़बॉल' के लिए अपना समर्थन जारी रखा है. मेहमान टीम ने हैदराबाद में पहला मैच जीता, लेकिन लगातार तीन मैच हार गई, विशेषज्ञों और प्रशंसकों ने उनकी खेल के अंदाज की आलोचना की और परिस्थितियों के अनुसार खेलने के उनकी क्षमता पर सवाल उठाए. हालांकि, मैकुलम ने कहा कि पिछले 18 महीनों में उनमें सुधार हुआ है और उन्होंने कहा कि वे "कुछ विशेष काम" करने में सक्षम हैं.

मैकुलम ने 'बैज़बॉल' को लेकर कहा

'खेलों में कई बार ऐसा होता है. हमने अभी तक अपने तरीके में सुधार नहीं किया है. हम यहां हार गए हैं, एशेज (2-2) से नहीं जीत पाए, लेकिन हम 18 महीने पहले की तुलना में बेहतर टीम हैं और हमें अगले 18 महीनों में कुछ खास करने का मौका मिला है,'' मैकुलम यूके मीडिया को बताया. ''हम हर स्थिति में अपने खेल के अंदाज़ पर काम करेंगे. इंग्लैंड टीम का कोच बनने के लिए यह कोई बुरा समय नहीं है.”

भारत 7 मार्च से धर्मशाला में होने वाले आखिरी गेम के साथ सीरीज में 3-1 से आगे है. टीम की आखिरी घरेलू सीरीज 2012-13 में एलिस्टर कुक के नेतृत्व वाली इंग्लैंड से 1-2 से हार थी. तब से भारत ने घरेलू मैदान पर 50 में से 39 टेस्ट जीते हैं. मेजबान टीम की जीत 'बैज़बॉल' के लिए एक आश्चर्यजनक उपल्बधि है, जो 2022 से इंग्लैंड के लिए जीत का चर्चित मंत्र रहा है और अब बहुत कठोर होने और रणनिती की कमी के कारण चौतरफा आलोचना का सामना कर रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कोच के रूप में ब्रेंडन मैकुलम और कप्तान के रूप में बेन स्टोक्स (Ben Stokes) की नियुक्ति के बाद संकल्पित, परिस्थितियों के बावजूद आक्रमण करने की इंग्लैंड की योजना को भारतीयों के अडिग दृष्टिकोण में अपना मैच मिला. अनुभवी जो रूट के शतक को छोड़कर मेहमान टीम जिद्दी बनी रही, लेकिन भारतीयों ने खुद को ढाल लिया और असफलताओं से घबराने से इनकार कर दिया.