विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 26, 2023

डॉलर के मुकाबले एक दिन में 24 रुपये क्यों गिरा पाकिस्तानी रुपया? पढ़ें, आखिर क्या है इसकी वजह

इस गिरावट के पीछे कि वजह ये है कि पाकिस्तान ने IMF की शर्त मान कर अपने रुपये को खुले बाज़ार की क़ीमत के हिसाब से खुला छोड़ दिया है.

Read Time: 9 mins
डॉलर के मुकाबले एक दिन में 24 रुपये क्यों गिरा पाकिस्तानी रुपया? पढ़ें, आखिर क्या है इसकी वजह
नई दिल्ली:

पाकिस्तान में आर्थिक संकट दिन पर दिन गहराता जा रहा है. बढ़ते आर्थिक संकट की वजह से अब पाकिस्तानी रुपये में भी डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई है. गुरुवार को एक डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया 255 पर जाकर रुका है. जो इसका सबसे निचला स्तर है. पाकिस्तानी रुपये में ये गिरावट सरकार द्वारा विनिमय दर पर अपनी पकड़ ढीली करने के बाद आई है.

इस गिरावट के पीछे कि वजह ये है कि पाकिस्तान ने IMF की शर्त मान कर अपने रुपये को खुले बाज़ार की क़ीमत के हिसाब से खुला छोड़ दिया है. इससे पहले पाकिस्तान के वित्त मंत्री मोहम्मद इशॉक डार ने एक डॉलर की क़ीमत को करीब 231 रुपये पर कृत्रिम तरीक़े से रोक रखा था ताकि अधिक किरकिरी न हो. लेकिन ये सरकारी खजाने में डॉलर आने में एक बड़ा रोड़ा बना हुआ था. 

Advertisement

इससे नुकसान ये हो रहा था कि डॉलर एक्सचेंज के लिए सरकारी बैंक में न आकर खुले बाज़ार में जा रहा था जहां इसकी ऊंची क़ीमत मिल रही थी. पाकिस्तान के सरकारी खजाने में डॉलर कम होने की ये भी एक बड़ी वजह है. जानकारों के मुताबिक़ पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार 4.34 बिलियन डॉलर का ही रह गया है, जो लगभग खाली होने जैसा है.

IMF ने मदद की अगली क़िस्त जारी करने से पहले पाकिस्तान के पास मुख्यतौर पर तीन शर्तें रखी हैं. उसमें डॉलर के मुक़ाबले पाकिस्तानी रुपये की क़ीमत को बाज़ार भाव के अनुकूल करना था. 

दूसरी शर्त गैस, बिजली और डीज़ल पर दी जा रही सब्सिडी को ख़त्म करना है. इससे इन चीज़ों की क़ीमत बेतहाशा बढ़ेगी और जनता में सरकार के प्रति नाराज़गी बढ़ेगी. लेकिन पाकिस्तान की सरकार को ये कड़वी घूंट पीनी पड़ेगी वरना IMF की शर्त पूरी नहीं होगी.

तीसरी शर्त है कि राजस्व घाटे को पूरा करने के लिए पाकिस्तान सरकार नए टैक्स लगाए. पाकिस्तान के आर्थिक मामलों के जानकार आबिद सुलेरी बताते हैं कि राजनीतिक तौर पर ये फ़ैसला शाहबाज़ शरीफ़ सरकार के लिए अलोकप्रिय साबित होगा लेकिन ऐसा फ़ैसला लेने के अलावा, उनके पास और कोई चारा नहीं है. उम्मीद की जा रही है कि पाकिस्तान में जल्द ही एक मिनी बजट लाया जाएगा.

Advertisement

इन फ़ैसलों के बाद पाकिस्तान को उम्मीद है कि आईएमएफ़ जल्द ही लेटर ऑफ़ कमंर्फ जारी कर देगा. ये न सिर्फ़ आईएमएफ़ से 1.66 बिलियन की अगली किस्त तो मिलेगी ही, लेटर आफ़ कंफर्ट मिलना पाकिस्तान के लिए इसलिए भी जरूरी है ताकि चीन और सऊदी अरब समेत तमाम उन देशों से जिनसे पाकिस्तान ने कर्ज लिया हुआ है. इस लेटर के आधार पर चीन समेत तमाम देनदार देश अपने कर्जे का नवीनीकरण कर देंगे.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
अमेरिका : टेक्सास, ओक्लाहोमा और अर्कांसस में तूफान ने मचाई तबाही, 18 लोगों की मौत
डॉलर के मुकाबले एक दिन में 24 रुपये क्यों गिरा पाकिस्तानी रुपया? पढ़ें, आखिर क्या है इसकी वजह
VIDEO: अमेरिका में शक्तिशाली बवंडर ने मचाई तबाही, राजमार्ग पर पलटा ट्रक
Next Article
VIDEO: अमेरिका में शक्तिशाली बवंडर ने मचाई तबाही, राजमार्ग पर पलटा ट्रक
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;