कोविड के खौफ के चलते तीन महीनों तक शिकागो एयरपोर्ट में छिपा रहा भारतीय मूल का शख्स, ऐसे हुआ गिरफ्तार

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के मद्देनजर हवाई यात्रा करने से डर रहे भारतीय मूल के एक शख्स ने शिकागो इंटरनेशनल एयरपोर्ट (chicago international airport) पर एक सुरक्षित जगह में करीब तीन महीने गुजार दिए.

कोविड के खौफ के चलते तीन महीनों तक शिकागो एयरपोर्ट में छिपा रहा भारतीय मूल का शख्स, ऐसे हुआ गिरफ्तार

US Airport Arrest: शख्स ‘कोविड-19 की वजह से घर जाने से डर रहा था.’

लॉस एंजिलिस:

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के मद्देनजर हवाई यात्रा करने से डर रहे भारतीय मूल के एक शख्स ने शिकागो इंटरनेशनल एयरपोर्ट (chicago international airport) पर एक सुरक्षित जगह में करीब तीन महीने गुजार दिए. हालांकि शख्स को अब गिरफ्तार कर लिया गया है. रविवार को शिकागो ट्रिब्यून में प्रकाशित खबर के मुताबिक 36 साल के आदित्य सिंह कैलिफोर्निया के लॉस एंजिलिस के एक उपनगर में रहते हैं. उन्हें शिकागो के ओहारे अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के एक सुरक्षित क्षेत्र में रहने के आरोप में शनिवार को गिरफ्तार किया गया. खबर के मुताबिक सिंह पर हवाईअड्डे के एक प्रतिबंधित क्षेत्र में आपराधिक तरीके से घुसने और चोरी के मामले दर्ज किए गए हैं. 

Read Also: पदभार संभालते पहले 10 दिन में इन 4 संकटों का समाधान करेंगे नए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन

अभियोजकों ने एक अदालत को बताया कि सिंह लॉस एंजिलिस से 19 अक्टूबर को विमान से ओहारे पहुंचा और कथित तौर पर तब से वह हवाई अड्डे के सुरक्षा जोन में रह रहा है. सिंह को यूनाइटेड एयरलाइन्स के दो कर्मचारियों ने पहचान पत्र देने को कहा लेकिन उसने एक बैज (कर्मी पहचानपत्र) दिया जो कथित तौर पर एक अभियान प्रबंधक का था, जिसने अक्टूबर में ही इसके खोने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. 


Read Also: कितने साल तक कारगर रहेगी कोरोना वैक्सीन, अलग-अलग टीकों का क्या होगा असर - जानें सभी सवालों के जवाब

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


असिस्टेंट स्टेट अटॉर्नी कैथलीन हगार्टे ने बताया कि उसे हवाईअड्डे में कथित तौर पर यह कर्मी बैज मिला था. व्यक्ति ‘कोविड-19 की वजह से घर जाने से डर रहा था.' सहायक लोक बचावकर्ता कोर्टनी स्मॉलवुड ने बताया कि सिंह के पास आतिथ्य क्षेत्र में मास्टर डिग्री है और वह बेरोजगार है. शिकागो उड्डयन विभाग ने एक बयान में बताया, ‘‘ यह मामला अभी जांच का विषय है लेकिन हम पता लगाने में सक्षम रहे कि यह व्यक्ति हवाईअड्डा या यात्रियों के लिए खतरा नहीं बना.'' 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)