मंगल ग्रह पर 'पर्सवियरेंस' रोवर पहली बार 21 फीट चला, मिट्टी पर दिखे निशान: देखें- VIDEO

नासा के मुताबिक, रोवर चार मीटर आगे बढ़ा, फिर वहां से 150 डिग्री पर बाएं मुड़ा और फिर 2.5 मीटर पीछे आया. इस दौरान उसके पहियों के निशान मंगल ग्रह की सतह पर दर्ज हो गए. नासा ने इसका वीडियो भी जारी किया है.

मंगल ग्रह पर 'पर्सवियरेंस' रोवर पहली बार 21 फीट चला, मिट्टी पर दिखे निशान: देखें- VIDEO

नासा ने कहा, "छह पहियों वाला रोवर गुरुवार को 33 मिनट में 6.5 मीटर यानी 21.3 फीट आगे चला."

वाशिंगटन:

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA द्वारा मंगल ग्रह पर भेजे गए पर्सवियरेंस रोवर (Perseverance rover) गुरुवार (4 मार्च) को पहली बार अपनी लैंडिंग वाली जगह से सफलतापूर्वक आगे बढ़ा. NASA ने शुक्रवार को कहा है कि रोवर ने अपने अभियान का पहला चरण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है. नासा ने कहा, "छह पहियों वाला रोवर गुरुवार को 33 मिनट में 6.5 मीटर यानी 21.3 फीट आगे चला."

नासा के मुताबिक, रोवर चार मीटर आगे बढ़ा, फिर वहां से 150 डिग्री पर बाएं मुड़ा और फिर 2.5 मीटर पीछे आया. इस दौरान उसके पहियों के निशान मंगल ग्रह की सतह पर दर्ज हो गए. नासा ने इसका वीडियो भी जारी किया है.

NASA के पर्सिवियरेंस रोवर ने भेजी मंगल से पहली ऑडियो क्लिप, लैंडिंग का VIDEO भी जारी, देखें...

कैलिफोर्निया के पासाडेना में नासा के जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी में पर्सवियरेंस की गतिशीलता का परीक्षण करने वाली इंजीनियर अनीस ज़रीफ़ियन ने कहा, "पर्सविरयरेन्स के टायर को किक और उसे बाहर घुमाने का यह हमारा पहला मौका था." ज़रीफ़ियन ने कहा कि परीक्षण अभियान 'अविश्वसनीय रूप' से बहुत अच्छी तरह से चला और "मिशन और उसे पूरा करने वाली टीम के लिए यह बहुत बड़ा 'मील का पत्थर' साबित हुआ है.


''यह मेरे लिए सम्‍मान की बात'': नासा मीट में भारतीय-अमेरिकियों से बात करते हुए बोले जो बाइडेन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा, "जल्द ही हम लंबी ड्राइव पर निकलने वाले हैं, यह तो अभी शुरुआत है." NASA की तरफ से कहा गया है कि शुक्रवार और शनिवार को रोवर लंबी ड्राइव पर निकलेगा. नासा के मुताबिक, रोवर प्रति दिन 200 मीटर की दूरी तय कर सकता है, जो पृथ्वी पर एक दिन की तुलना में थोड़ा लंबा है. बता दें कि 18-19 फरवरी की मध्यरात्रि में रोवर मंगल ग्रह पर जीवन की तलाश करने के लिए सफलतापूर्वक उतरा था. NASA के मुताबिक मंगल ग्रह पर यह अबतक की सबसे सटीक लैंडिंग है.