कनाडा में हिन्दू मंदिर की दीवारों पर बनाए गए भारत-विरोधी चित्र, इस संगठन ने किया यह घिनौना काम...

“हम टोरंटो (Toronto) के बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर (BAPS Swaminarayan Temple) को भारत विरोधी भित्तिचित्रों (Anti-India Graffiti) से विरूपित किए जाने की घटना की कड़ी निंदा करते हैं. हमने कनाडा (Canada) के अधिकारियों से घटना की जांच करने और आरोपियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने का अनुरोध किया है.” - टोरंटो स्थित भारतीय उच्चायोग

कनाडा में हिन्दू मंदिर की दीवारों पर बनाए गए भारत-विरोधी चित्र, इस संगठन ने किया यह घिनौना काम...

कनाडा के टोरंटो में बना है बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर (File Photo)

टोरंटो:

कनाडा (Canada) के खालिस्तानी (Khalistani) चरमपंथियों द्वारा टोरंटो (Toronto) के एक प्रमुख हिंदू मंदिर (Hindu Temple) पर भारत विरोधी (Anti India) भित्तिचित्र बनाकर उसे विरूपित करने का मामला सामने आया है.  भारत ने इस घटना को घृणा अपराध करार देते हुए कनाडाई अधिकारियों से आरोपियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने का आग्रह किया है.  टोरंटो के बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर में यह घटना कब हुई, फिलहाल इस बारे में पता नहीं चल पाया है.टोरंटो स्थित भारतीय उच्चायोग ने बुधवार को ट्वीट किया, “हम टोरंटो के बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर को भारत विरोधी भित्तिचित्रों से विरूपित किए जाने की घटना की कड़ी निंदा करते हैं. कनाडा के अधिकारियों से घटना की जांच करने और आरोपियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने का अनुरोध किया है.”

वहीं, कनाडाई सांसद चंद्र आर्या ने ट्विटर पर कहा, “कनाडा के खालिस्तानी चरमपंथियों द्वारा टोरंटो के बीएपीएस श्री स्वामीनारायण मंदिर को विरूपित किए जाने की घटना की सभी को निंदा करनी चाहिए. यह सिर्फ एक अकेली घटना नहीं है. कनाडा के हिंदू मंदिरों को हाल के दिनों में इस तरह के कई घृणा अपराधों का सामना करना पड़ा है. इन घटनाओं को लेकर कनाडा के हिंदुओं की चिंताएं जायज हैं.”

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ब्रैम्पटन दक्षिण की सांसद सोनिया सिद्धू ने भी इस घटना पर खेद प्रकट किया. उन्होंने ट्वीट किया, “टोरंटो में बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर को विरूपित किए जाने के कृत्य से मैं बहुत दुखी हूं. हम एक बहुसांस्कृतिक और बहु-आस्था वाले समुदाय में रहते हैं, जहां हर कोई सुरक्षित महसूस करने का हकदार है. घटना के जिम्मेदार लोगों की पहचान की जानी चाहिए, ताकि उन्हें उनके कृत्यों की सजा दी जा सके.”