पंजशीर घाटी में तालिबान को भारी नुकसान, नॉर्दर्न अलांयस ने कहा- नहीं पहुंच पा रही कोई मदद 

नॉर्दर्न अलांयस ने कहा है कि पंजशीर घाटी में तालिबान को कोई मदद नहीं पहुंच पा रही है. वहां सभी तरह के संपर्क साधनों को ध्वस्त कर दिया गया है.

पंजशीर घाटी में तालिबान को भारी नुकसान, नॉर्दर्न अलांयस ने कहा- नहीं पहुंच पा रही कोई मदद 

पंजशीर घाटी में तालिबान और विद्रोही लड़ाकों के बीच चल रहे संघर्ष में तालिबान को भारी नुकसान पहुंचा है.

अफगानिस्तान (Afghanistan) की पंजशीर घाटी (Panjshir Valley) में तालिबान सेना और विद्रोही लड़ाकों के बीच चल रहे संघर्ष में तालिबान को भारी नुकसान पहुंचा है. नॉर्दर्न अलांयस ने कहा है कि पंजशीर घाटी में तालिबान को कोई मदद नहीं पहुंच पा रही है. वहां सभी तरह के संपर्क साधनों को ध्वस्त कर दिया गया है.

इससे पहले तालिबान ने दावा किया था कि उसने पंजशीर घाटी पर कब्जा कर लिया है और पूरा अफगानिस्तान अब उसके नियंत्रण में है. उधर, विद्रोही लड़ाकों ने तालिबान के इस दावे का खंडन किया है. विद्रोही गुट के कई अन्य नेताओं ने भी पंजशीर पर तालिबान के कब्जे की रिपोर्टों को खारिज कर दिया है, जहां क्षेत्रीय मिलिशिया के हजारों लड़ाके और पुरानी सरकार की सेना के लड़ाके अब भी मौजूद हैं.

विपक्षी ताकतों के नेताओं में से एक पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह ने टोलो न्यूज को बताया कि उनके देश छोड़कर भाग जाने की खबरें झूठी थीं. सालेह ने उनके द्वारा भेजी गई वीडियो क्लिप पर कहा, "इसमें कोई संदेह नहीं है कि हम एक मुश्किल स्थिति में हैं. हम तालिबानी आक्रमण के मध्य में हैं... हम पकड़ बनाए हुए हैं, हम उनका डटकर विरोध कर रहे हैं."

अफगानिस्तान के 34 प्रांतों में से पंजशीर इकलौता ऐसा प्रांत है जहां तालिबान कब्जा नहीं कर सका है. वर्ष 2001 में तालिबान को हटाने के लिए अमेरिका का साथ देने वाले ‘नार्दर्न अलायंस' संगठन के दिवंगत कमांडर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद ने कहा कि उसके लड़ाके भी पंजशीर में मौजूद हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- - ये भी पढ़ें - -
* तालिबान का दावा- अब पंजशीर पर भी हमारा कब्जा, विद्रोही लड़ाकों का इनकार : रिपोर्ट
* अफगानिस्तान के मुद्दे पर हर देश के साथ संपर्क में है भारत, पाकिस्तान की भूमिका संदिग्ध : विदेश सचिव
* अफगानिस्तान में सरकार के गठन को एक दिन टाला गया, चार सितंबर को होगा ऐलान: तालिबान के प्रवक्ता