विज्ञापन
Story ProgressBack

औरंगजेब लगाएंगे पाकिस्तान की नैया पार? बैंक CEO का पद छोड़ बने वित्त मंत्री, नहीं लेंगे कोई सैलरी

पाकिस्तान में मुहम्मद औरंगजेब की वापसी ने कई लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया. एक पूर्व सहयोगी के अनुसार, उन्होंने सिंगापुर के जीवन और जेपी मॉर्गन में एक आरामदायक नौकरी को एक ऐसे पद के लिए छोड़ा, जिसे कई लोग एक सपने जैसी नौकरी मानते हैं.

Read Time: 4 mins
औरंगजेब लगाएंगे पाकिस्तान की नैया पार? बैंक CEO का पद छोड़ बने वित्त मंत्री, नहीं लेंगे कोई सैलरी
नई दिल्ली:

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए वित्त मंत्री मुहम्मद औरंगजेब ने देश के सबसे बड़े बैंक के सीईओ (CEO) का पद छोड़ दिया. कहा जा रहा है कि वो कोई सैलरी भी नहीं लेंगे. नए वित्त मंत्री मुहम्मद औरंगजेब ने पिछले महीने ऐसे समय में ये पद संभाला हैं, जब पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था अपने इतिहास के सबसे उथल-पुथल भरे दौर से गुजर रही है.

एक बेलआउट प्रोग्राम से दूसरे में भागते करते हुए पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा अपने ऋण को मुश्किल से बॉर्डर लाइन तक बनाए रखा है. पाकिस्तान, एशिया की सबसे तेज मुद्रा स्फीति, कमजोर वृद्धि और दुनिया में सबसे कम टैक्स कलेक्शन रेट्स में से एक देश है.

एक प्रमुख बैंकर और जेपी मॉर्गन चेज एंड कंपनी के पूर्व छात्र रहे औरंगजेब के सामने बड़ी चुनौती है. उनके सामने कई ऐसी स्थितियां हैं जो उनके नियंत्रण से बाहर हैं, जिनमें अस्थिर घरेलू राजनीति, पड़ोसियों भारत, अफगानिस्तान तथा ईरान के साथ तनाव और जलवायु परिवर्तन की विनाशकारी स्थिति भी शामिल है.

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में स्थित नीति थिंक टैंक तबडलाब के संस्थापक और पूर्व सरकारी सलाहकार मोशर्रफ जैदी ने कहा, "मोटे तौर पर वित्त मंत्री का काम अर्थव्यवस्था का प्रबंधन और संचालन करना है. इस तरह से तैयार करने पर ये आसान लगता है, लेकिन वास्तव में, ये सबसे जटिल कामों में से एक है."

वित्त मंत्री औरंगजेब के सबसे नए कामों में आईएमएफ के साथ कम से कम $6 बिलियन के न्यूनतम तीन साल के कार्यक्रम के लिए जून तक एक समझौते पर सहमति बनाना है. फंड के लिए बातचीत के मुख्य उद्देश्यों में टैक्स बेस को व्यापक बनाना, ऋण स्थिरता में सुधार करना और ऊर्जा क्षेत्र में व्यवहार्यता बहाल करना शामिल होगा. इन सभी कदमों को पाकिस्तान दशकों से टालता रहा है.

औरंगज़ेब इसी साल मार्च में लगातार दूसरे कार्यकाल के लिए चुने गए प्रधानमंत्री शहबाज़ शरीफ़ के अरजेंसी का जिक्र करते हैं. उन्होंने इस्लामाबाद में अपने मंत्रालय में एक साक्षात्कार में शरीफ के बारे में कहा, "वो ऐसे व्यक्ति हैं, जो काम करवाना चाहते हैं."

औरंगजेब ने कहा, "ये वास्तव में उस जनादेश को भुनाने और ये सुनिश्चित करने का समय है कि जो भी कड़े फैसले लेने की जरूरत है वे अभी लिए जाएं. हमें हर किसी के साथ परामर्श करना चाहिए, हमें आम सहमति बनाने की कोशिश करनी चाहिए, लेकिन कुछ चीजें हमें पूरी करनी होंगी."

लाहौर के एक प्रतिष्ठित परिवार से आने वाले औरंगजेब के पिता पाकिस्तान के अटॉर्नी जनरल थे. 59 वर्षीय औरंगजेब देश के प्रतिष्ठित एचिसन कॉलेज में पढ़े, फिर अपने करियर की शुरुआत में न्यूयॉर्क में सिटीग्रुप इंक में काम करने से पहले छात्रवृत्ति पर व्हार्टन में भी पढ़ाई की.

वो एबीएन एमरो बैंक एनवी की एक इकाई में काम करने के लिए पाकिस्तान लौट आए, बाद में एम्स्टर्डम में बैंक के मुख्यालय चले गए. 2018 में, जब उन्होंने पाकिस्तान के सबसे बड़े ऋणदाता, हबीब बैंक लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में कार्यभार संभालने के लिए सिंगापुर में जेपी मॉर्गन को छोड़ा, तो उन्होंने फिर से अपने देश में वापस जाना स्वीकार किया, क्योंकि कमजोर मनी-लॉन्ड्रिंग नियंत्रण और प्रतिबंधों के अनुपालन के लिए संचालन उस पर 225 मिलियन डॉलर का जुर्माना लगाया गया था और उसे अपना यू.एस. समाप्त करने के लिए मजबूर किया गया था.

पाकिस्तान में मुहम्मद औरंगजेब की वापसी ने उन लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया, जिनके साथ उन्होंने काम किया था. एक पूर्व सहयोगी के अनुसार, उन्होंने सिंगापुर के जीवन और जेपी मॉर्गन में एक आरामदायक नौकरी को एक ऐसे पद के लिए छोड़ा, जिसे कई लोग एक सपने जैसी नौकरी मानते हैं.

व्यक्तिगत निर्णयों पर चर्चा करने के लिए नाम नहीं छापने की शर्त पर उस व्यक्ति ने कहा कि औरंगजेब अक्सर अपने जन्मस्थान देश के प्रति अपने प्रेम के बारे में बात करते थे और वित्त मंत्री बनाए जाने को राष्ट्र के प्रति उनकी प्रतिबद्धता के सबूत के रूप में देखा जाता है.

दो बच्चों के पिता औरंगजेब को औरी के नाम से भी जाना जाता है. वो शरीफ के पिछले कार्यकाल के दौरान 2022 में प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्य थे. चुनाव से कुछ हफ्ते पहले उन्हें वित्त मंत्री के पद के लिए संपर्क किया गया था, प्रस्ताव स्वीकार करने से पहले वो शरीफ से कई बार भी मिले थे.
 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
चीन ने एक साल में बनाए 90 वॉरहेड, भारत से 11 गुना बढ़ गया न्यूक्लियर हथियारों का स्टॉक, समझें कौन सा देश कितना पावरफुल?
औरंगजेब लगाएंगे पाकिस्तान की नैया पार? बैंक CEO का पद छोड़ बने वित्त मंत्री, नहीं लेंगे कोई सैलरी
भारत का न्यूयॉर्क वाणिज्य दूतावास अब 365 दिन रहेगा खुला, इन लोगों को होगा फायदा
Next Article
भारत का न्यूयॉर्क वाणिज्य दूतावास अब 365 दिन रहेगा खुला, इन लोगों को होगा फायदा
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;