विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 24, 2019

सोनभद्र नरसंहार मामले में नया मोड़, विधायक ने पहले ही पत्र लिखकर योगी सरकार को किया था अलर्ट, लेकिन...

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के उम्भा गांव में हुए नरसंहार मामले में एक और नया मोड़ सामने आया है. अब एक विधायक द्वारा लिखा पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने जमीनी विवाद के बारे में पहले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को को अलर्ट कर दिया था.

सोनभद्र नरसंहार मामले में नया मोड़, विधायक ने पहले ही पत्र लिखकर योगी सरकार को किया था अलर्ट, लेकिन...
सोनभद्र के उम्भा गांव में 17 जुलाई को जमीन के विवाद में 10 लोगों की हत्या कर दी गई थी.
लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के उम्भा गांव में हुए नरसंहार मामले में एक और नया मोड़ सामने आया है. अब एक विधायक द्वारा लिखा पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने जमीनी विवाद के बारे में पहले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को को अलर्ट कर दिया था. बीजेपी के सहयोगी अपना दल के विधायक हरिराम चेरो ने बताया कि उन्होंने 14 जनवरी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर उम्भा गांव के आदिवासियों की पैतृक भूमि पर कथित रूप से भूमाफिया द्वारा कब्जा करने और उन्हें फर्जी मामले में फंसाकर परेशान करने की जानकारी दी थी. साथ ही उन्होंने 600 बीघा विवादित जमीन और फर्जी सोसायटी बनाकर भूमि हड़पने का आरोप लगाया था.

सोनभद्र में जिस जमीन के लिए चली गईं 10 जानें उसके नही हैं 1955 के राजस्व रिकॉर्ड उपलब्ध

विधायक हरिराम चेरो ने मामले की जांच उच्चस्तरीय एजेंसी से कराने की मांग की थी. इसके बावजूद अधिकारियों ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की वरना इतनी बड़ी घटना न हो पाती. हरिराम चेरो ने 14 जनवरी 2019 को ही इससे संबंधित पत्र मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखा था और आरोप लगाया था कि भूमाफिया आदिवासियों की पैतृक भूमि जबरदस्ती हड़पने के चक्कर में हैं.

सोनभद्र नरसंहार का VIDEO आया सामने: गांववालों को चारों ओर ट्रैक्टरों से घेरकर लाठियों से पीटते दिखे हथियारबंद आरोपी

मंगलवार को उनका यह पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हुआ. विधायक ने इस पत्र के सही होने की पुष्टि की और कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री को पहले ही आगाह किया था लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. विधायक हरिराम ने आरोप लगाया था कि भूमाफिया के दबाव में पुलिस और पीएसी के जवान आदिवासियों को प्रताड़ित करते हैं और महिलाओं का शारीरिक शोषण करते हैं.

सोनभद्र मामले में न्याय की मांग और प्रियंका गांधी को हिरासत में रखने के विरोध में कांग्रेस सांसदों का संसद परिसर में प्रदर्शन

विधायक ने कहा, 'यह मेरे विधानसभा का मामला नहीं है, लेकिन मैं आदिवासियों का नेता हूं, इसलिए वहां जन चौपाल  लगाकर आदिवासियों ने अपनी समस्या बताई थी. इस दौरान तहसीलदार भी मौजूद थे.' उन्होंने कहा कि अगर समय रहते इस पर कार्रवाई करते तो ऐसी घटना नहीं घटती. विधायक ने कहा कि जिस जाति के आदिवासियों की हत्या हुई है, उसी समाज से मैं भी आता हूं. ये आदिवासी आजादी के बाद से ग्रामसभा की जमीन को जोत-बो रहे थे. विधायक ने पत्र में अनुरोध किया था कि आदिवासियों पर हो रहे अन्याय पर संज्ञान लेते हुए इस प्रकरण की किसी बड़ी एजेंसी से निष्पक्ष जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए. बता दें कि सोनभद्र के उम्भा गांव में 17 जुलाई को जमीन के विवाद में 10 लोगों की हत्या कर दी गई थी, जिस दौरान कई लोग घायल भी हो गए थे.

VIDEO: सोनभद्र नरसंहार का एक और वीडियो आया सामने

(इनपुट:IANS)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
इंटरनेट बंद, ड्रोन से निगरानी, 2000 जवानों की तैनाती... नूंह में ब्रजमंडल यात्रा को लेकर ट्रैफिक एडवाइजरी जारी
सोनभद्र नरसंहार मामले में नया मोड़, विधायक ने पहले ही पत्र लिखकर योगी सरकार को किया था अलर्ट, लेकिन...
यह सायनाइड है क्या? रंग-स्वाद कैसा? दुनिया के सबसे जानलेवा जहर के बारे में जानिए
Next Article
यह सायनाइड है क्या? रंग-स्वाद कैसा? दुनिया के सबसे जानलेवा जहर के बारे में जानिए
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;