विज्ञापन
Story ProgressBack

ऑपरेशन मेघदूत’ क्या था और कैसे भारतीय सेना ने सियाचिन ग्लेशियर में चार दशक किए पूरे?

कराकोरम पर्वत शृंखला में करीब 20,000 फुट की ऊंचाई पर स्थित सियाचिन ग्लेशियर दुनिया में सबसे ऊंचे सैन्यीकृत क्षेत्र के रूप में जाना जाता है, जहां सैनिकों को बर्फीली और सर्द हवा से जूझना पड़ता है.

Read Time: 3 mins
ऑपरेशन मेघदूत’ क्या था और कैसे भारतीय सेना ने सियाचिन ग्लेशियर में चार दशक किए पूरे?
पिछले कुछ वर्षों में बुनयादी ढांचा बढ़ने से सेना की अभियानगत क्षमता में काफी सुधार आया है.
नई दिल्ली:

भारतीय सेना ने अपने ‘ऑपरेशन मेघदूत' के तहत 13 अप्रैल, 1984 में सियाचिन ग्लेशियर पर अपना पूर्ण नियंत्रण कायम किया था. एक अधिकारी ने कहा, ‘‘सियाचिन ग्लेशियर पर भारतीय सेना का नियंत्रण न केवल अद्वितीय वीरता और दृढ़ संकल्प की गाथा है, बल्कि प्रौद्योगिकी उन्नति और साजो-सामान संबंधी सुधारों की एक असाधारण यात्रा भी है, जिसने सबसे दुर्जेय इलाकों में से एक इस क्षेत्र को अदम्य जोश और नवोन्मेष के प्रतीक में बदल दिया.''

Advertisement
अधिकारी ने अपनी पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर कहा कि खासकर पिछले पांच सालों में उठाये गये कदमों ने सियाचिन में तैनात इन जवानों के जीवन स्तर और अभियानगत क्षमताओं में सुधार लाने में लंबी छलांग लगायी है.

भारी सामानों को उठाने में सक्षम हेलीकॉप्टरों और ड्रोनों का उपयोग, सभी सतहों के लिए अनुकूल वाहनों की तैनाती, मार्गों का विशाल नेटवर्क बिछाया जाना उन कई कदमों में शामिल हैं, जिन्होंने दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन में भारत के सैन्य कौशल बढ़ाया है. 

महिला अधिकारी की हुई तैनाती
अधिकारी ने कहा कि सामरिक रूप से महत्वपूर्ण सियाचिन ग्लेशियर में भारतीय सेना ने अपनी मौजूदगी के 40 साल पूरे किये हैं और पिछले कुछ वर्षों में बुनयादी ढांचा बढ़ने से उसकी अभियानगत क्षमता में काफी सुधार आया है. कराकोरम पर्वत शृंखला में करीब 20,000 फुट की ऊंचाई पर स्थित सियाचिन ग्लेशियर दुनिया में सबसे ऊंचे सैन्यीकृत क्षेत्र के रूप में जाना जाता है, जहां सैनिकों को बर्फीली और सर्द हवा से जूझना पड़ता है. पिछले साल जनवरी में सेना के इंजीनियर कोर की कैप्टन शिवा चौहान को सियाचिन ग्लेशियर की अग्रिम चौकी पर तैनात किया गया था. एक अहम रणक्षेत्र में एक महिला सैन्य अधिकारी की यह ऐसी पहली अभियानगत तैनाती थी.

Advertisement

काफी बदलाव आया
एक अन्य अधिकारी ने कहा कि डीआरडीओ द्वारा विकसित एटीवी पुल जैसे नवोन्मेषों से सेना प्राकृतिक बाधाओं को पार पाने में समर्थ हुई है तथा हवाई केबल मार्गों में उच्च गुणवत्ता की ‘डायनीमा' रस्सियों से सुदूरतम चौकियों में भी सामानों की बेरोकटोक आपूर्ति सुनिश्चित हुई है, उन्होंने कहा, ‘‘भारी सामानों को ले जाने में सक्षम हेलीकॉप्टरों एवं ड्रोनों से इन चौकियों पर तैनात कर्मियों के लिए आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में काफी सुधार आया है. ये चौकियां खासकर सर्दियों में सड़क संपर्क से कट जाती हैं.'' अधिकारी ने कहा, ‘‘ विशेष कपड़ों, पर्वतारोहण उपकरणों, विशेष राशन की उपलब्धता से दुनिया के सबसे अधिक सर्द रणक्षेत्र में प्रतिकूल दशाओं से टक्कर लेने की सैनिकों की क्षमता बढ़ जाती है.''

Advertisement

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
पुणे पोर्श मामला : ड्राइवर को बदलने की भी की गई कोशिश - पुलिस 
ऑपरेशन मेघदूत’ क्या था और कैसे भारतीय सेना ने सियाचिन ग्लेशियर में चार दशक किए पूरे?
Explainer : धरती को प्यासा बनाता सूरज! दक्षिण में सूखे की आहट, खत्म होने की कगार पर सैकड़ों जलाशय
Next Article
Explainer : धरती को प्यासा बनाता सूरज! दक्षिण में सूखे की आहट, खत्म होने की कगार पर सैकड़ों जलाशय
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;