भारत में लम्‍पी त्‍वचा रोग में दिखे नए लक्षण चिंता का कारण, विशेषज्ञ ने दी चेतावनी

पीएम नरेंद्र मोदी को लिखे अपने लेटर में सीएम गहलोत ने लम्‍पी का मुकाबला करने के लिए अतिरिक्‍त मदद की जरूरत पर जोर दिया है. उन्‍होंने यह भी कहा कि लम्‍पी से मुकाबले के लिए वैक्‍सीन तैयार होने के बाद राजस्‍थान को तरजीह दी जाए.

भारत में लम्‍पी त्‍वचा रोग में दिखे नए लक्षण चिंता का कारण, विशेषज्ञ ने दी चेतावनी

लम्‍पी के कारण राजस्‍थान में दूध का उत्‍पादन प्रभावित हुआ है

जयपुर :

लम्‍पी त्‍वचा रोग (LSD) देश के कई राज्‍यों में कहर बरपा रहा है. लम्‍पी के कारण देश में बड़ी संख्‍या में मवेशियों को जान गंवानी पड़ी है. राजस्‍थान इस बीमारी से सर्वाधिक प्रभावित हुआ है और इसके कारण दूध का उत्‍पादन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. इसके कारण राज्‍य में दूध से निर्मित मिठाइयों के दाम में इजाफा देखा गया है. राज्‍य की सबसे बड़ी दुग्ध सहकारी संस्था, जयपुर डेयरी फेडरेशन के अनुसार दूध संग्रह में 15 से 18 प्रतिशत तक की गिरावट आई है, हालांकि अभी तक आपूर्ति में कोई व्यवधान नहीं आया है. फेडरेशन के चेयरमैन ओम पूनिया ने कहा, दैनिक दूध संग्रह अब सामान्‍य स्थिति के 14 लाख लीटर से घटकर 12 लाख लीटर रह गया है.

पूनिया ने कहा, "लम्‍पी के कहर के पहले हमें सहकारी संस्‍था में रोजाना 14 लाख लीटर दूध मिलता था जो कि अब गिरकर 12 हजार लीटर पर आ गया है. संतोष की बात यही है कि दूध की आपूर्ति में कोई व्‍यवधान नहीं आया है. हम जानवरों की मौतों को लेकर बेहद चिंतित हैं क्‍योंकि आधिकारिक तौर पर जो कहा जा रहा है, वास्‍तविक आंकड़ा निश्चित रूप से उससे अधिक है. अगर यह सिलसिला जारी रहा तो कोविड-19 के दौरान हमने जिस स्थिति का सामना किया, उससे भी बड़ी मुश्किल पैदा हो सकती है. " जोधपुर की स्‍वीट शॉप पर मुकेश कुमार शर्मा ने कहा, "लगभग सारी मिठाइयां मावे से बनती है. चूंकि दूध की सप्‍लाई गिर रही है, ऐसे में हमारा उत्‍पादन 80 फीसदी तक नीचे आ गया है. हमे कुछ मिठाइयों, खासकर दूध से निर्मित मिठाइयों की कीमत 20 रुपये तक बढ़ानी पड़ी है. "

यूनिवर्सिटी ऑफ वेटरेनरी एंड एनिमल साइंससे बीकानेर के प्रोफेसर सतीश के गर्ग कहते हैं, "हमने लम्‍पी में ऐसे लक्षण पहले कभी नहीं देखे. पहली बार, घावों और मुंह के छालों के साथ बुखार जैसे लक्षण देखे गए हैं. संभावना है कि वायरस का 'म्‍यूटेशन' हुआ है. कई लैब इस बारे में रिसर्च कर रहे हैं. " मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने मौजूदा स्थिति को लेकर चिंता जताई है क्‍योंकि पशुपालन राजस्‍थान की इकोनॉमी की रीढ़ है और इस रेगिस्‍तानी राज्‍य में किसानों की आय का प्राथमिक स्रोत दूध है. पीएम नरेंद्र मोदी को लिखे अपने लेटर में सीएम गहलोत ने लम्‍पी का मुकाबला करने के लिए अतिरिक्‍त मदद की जरूरत पर जोर दिया है. उन्‍होंने यह भी कहा कि लम्‍पी से मुकाबले के लिए वैक्‍सीन तैयार होने के बाद राजस्‍थान को तरजीह दी जाए.

* शराब घोटाले पर AAP के ख़िलाफ़ BJP ने जारी किया दूसरा स्टिंग VIDEO
* लखीमपुर खीरी केस : आरोपियों ने पहले लड़कियों से दोस्ती की और फिर रेप के बाद हत्या कर दी - पुलिस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महाराष्ट्र के अहमदनगर में लंपी वायरस का कहर