विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Apr 04, 2022

"लोकलुभावन योजनाएं डुबो सकती हैं आर्थिक नैया, श्रीलंका जैसे हो सकते हैं हालात", PM मोदी से बोले ब्यूरोक्रेट्स 

श्रीलंका वर्तमान में इतिहास के सबसे खराब आर्थिक संकट का सामना कर रहा है. वहां ईंधन, रसोई गैस और आवश्यक सामानों की कम आपूर्ति होने की वजह से लोगों को लंबी लाइनों में लंबे समय तक खड़ा रहना पड़ रहा है. वहां बिजली कटौती के कारण जनता हफ्तों से परेशान है.

Read Time: 4 mins
"लोकलुभावन योजनाएं डुबो सकती हैं आर्थिक नैया, श्रीलंका जैसे हो सकते हैं हालात", PM मोदी से बोले ब्यूरोक्रेट्स 
PM मोदी ने शनिवार को सभी विभागों के सचिवों के साथ चार घंटे लंबी बैठक की थी. (सांकेतिक तस्वीर)
नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ वरिष्ठ नौकरशाहों की हुई मैराथन बैठक में कुछ अधिकारियों ने कई राज्यों द्वारा घोषित लोकलुभावन योजनाओं पर चिंता जताई और दावा किया कि वे आर्थिक रूप से अस्थिर हैं. सूत्रों के मुताबिक अधिकारियों ने इस बैठक में कहा कि ऐसी लोकलुभावन और अव्यावहारिक योजनाएं अर्थव्यवस्था को श्रीलंका के समान रास्ते पर ले जा सकती हैं.

पीएम मोदी ने शनिवार को 7, लोक कल्याण मार्ग स्थित अपने कैंप कार्यालय में सभी विभागों के सचिवों के साथ चार घंटे लंबी बैठक की थी. इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, प्रधान मंत्री के प्रधान सचिव पीके मिश्रा और कैबिनेट सचिव राजीव गौबा के साथ केंद्र सरकार के अन्य शीर्ष नौकरशाह भी शामिल हुए थे.

बैठक के दौरान पीएम मोदी ने नौकरशाहों से स्पष्ट रूप से कहा कि वे संसाधानों की कमी के प्रबंधन की मानसिकता से बाहर निकलकर अधिशेष के प्रबंधन की नई चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार रहें. सूत्रों ने कहा कि पीएम मोदी ने प्रमुख विकास परियोजनाओं की आड़ में "गरीबी" का बहाना बनाने की पुरानी कहानी को छोड़ने के लिए कहा और उन्हें एक बड़ा दृष्टिकोण अपनाने के लिए कहा.

'प्रधानमंत्री की रोजाना की टु-डू लिस्ट में शामिल है...'- महंगाई को लेकर राहुल गांधी का पीएम मोदी पर ट्वीट

COVID-19 महामारी के दौरान सचिवों द्वारा दिखाई गई टीम वर्क का हवाला देते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें भारत सरकार के सचिवों के रूप में एक टीम के रूप में काम करना चाहिए न कि केवल अपने संबंधित विभागों के सचिवों के रूप में सीमित रहना चाहिए.

प्रधानमंत्री ने इस दौरान सचिवों से प्रतिक्रिया देने और सरकार की नीतियों में खामियों का सुझाव देने के लिए भी कहा, जिनमें वे भी शामिल हैं जो उनके संबंधित मंत्रालयों से संबंधित नहीं हैं. 

सूत्रों ने कहा कि दो दर्जन से अधिक सचिवों ने अपने विचार व्यक्त किए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपनी प्रतिक्रिया साझा की. पीएम मोदी ने खुले दिमाग से ब्यूरोक्रेट्स की बातें सुनीं. 2014 के बाद से प्रधान मंत्री की सचिवों के साथ यह नौवीं बैठक थी.

मस्जिदों के सामने हनुमान चालीसा बजाने की चेतावनी के अगले ही दिन राज ठाकरे के घर पहुंचे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी 

सूत्रों ने कहा कि दो सचिवों ने हाल के विधानसभा चुनावों में घोषित एक लोकलुभावन योजना का हवाला देते हुए एक राज्य में, जो आर्थिक रूप से खराब स्थिति में है, और अन्य राज्यों में इसी तरह की योजनाओं का हवाला देते हुए कहा कि वे आर्थिक रूप से अस्थिर हैं और ऐसी लोकलुभावन घोषणाएं राज्यों को श्रीलंका के समान रास्ते पर ले जा सकती हैं. 

श्रीलंका वर्तमान में इतिहास के सबसे खराब आर्थिक संकट का सामना कर रहा है. वहां ईंधन, रसोई गैस और आवश्यक सामानों की कम आपूर्ति होने की वजह से लोगों को लंबी लाइनों में लंबे समय तक खड़ा रहना पड़ रहा है. वहां बिजली कटौती के कारण जनता हफ्तों से परेशान है.

ऐसी बैठकों के अलावा, प्रधान मंत्री मोदी ने शासन में समग्र सुधार के लिए नए विचारों का सुझाव देने के लिए सचिवों के छह-क्षेत्रीय समूहों का भी गठन किया है.

वीडियो: 14 दिनों में 12 बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें-क्या हैं नया रेट

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;