विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 13, 2022

भारत- चीन सीमा विवाद पर बोले थल सेना प्रमुख, "स्थिति स्थिर, लेकिन अप्रत्याशित है"

भारत- चीन सीमा विवाद को लेकर थल सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे (General Manoj Pandey) ने कहा कि पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में ‘स्थिति स्थिर, लेकिन अप्रत्याशित’है.

Read Time: 3 mins

भारत- चीन सीमा विवाद पर थल सेना प्रमुख ने टिप्पणी की है.

नई दिल्ली:

थलसेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे (General Manoj Pandey) ने चीन से लगती सरहद पर 30 महीने से अधिक समय से जारी गतिरोध के बीच शनिवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में ‘स्थिति स्थिर, लेकिन अप्रत्याशित' है. जनरल पांडे ने एक विचार समूह (थिंक टैंक) को संबोधित करते हुए कहा कि भारत और चीन (India-China) के बीच अगले दौर की सैन्य वार्ता में विवाद के दो शेष बिंदुओं से जुड़े मुद्दों को हल करने पर ध्यान होगा. ऐसा माना जा रहा है कि उन्होंने डेमचोक और देपसांग का जिक्र करते हुए यह बात कही.

सेना प्रमुख ने कहा कि विवाद के सात बिंदुओं में से पांच पर मुद्दों को बातचीत के माध्यम से हल कर लिया गया है. उन्होंने साथ ही कहा कि इस क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीनी सैनिकों की संख्या में कोई कमी नहीं हुई है, लेकिन सर्दियों की शुरुआत के साथ कुछ पीएलए ब्रिगेड के लौटने के संकेत हैं.

उन्होंने ‘चाणक्य डायलॉग्स' में कहा कि व्यापक संदर्भ में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपनी कार्रवाई का बहुत सावधानी से आकलन करने की जरूरत है ताकि भारत अपने हितों एवं संवेदनशीलताओं की सुरक्षा कर पाये. जनरल पांडे ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘यदि मुझे इसे (हालात को) एक वाक्य में परिभाषित करता हो, तो मैं कहूंगा कि स्थिति स्थिर, किंतु अप्रत्याशित है.'' भारत शेष मुद्दों के समाधान के लिए चीन के साथ उच्च स्तर की सैन्य वार्ता के अगले दौर को लेकर आशावादी है. उन्होंने कहा, ‘‘हम 17वें दौर की वार्ता की तारीख पर विचार कर रहे हैं.''

सीमावर्ती इलाकों में चीन के बुनियादी ढांचा विकसित करने के विषय पर थलसेना प्रमुख ने कहा कि यह लगातार हो रहा है. क्षेत्र में भारतीय थलसेना की तैयारियों के बारे में उन्होंने कहा, ‘सर्दियों के मौसम के अनुकूल तैयारी जारी है.'जनरल पांडे ने यह भी कहा कि ‘अपने हितों की सुरक्षा के लिए वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हमारे कार्यों को बहुत सावधानीपूर्वक समायोजित करने'की जरूरत है.
 

ये भी पढ़ें :

महाराष्ट्र : दशकों से पुल का इंतजार कर रहे ग्रामीण, जान जोखिम में डालकर पार करते हैं नदी

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
कौन हैं शंकर सिंह? जिन्होंने बीमा भारती को हराने के साथ JDU के गढ़ रुपौली में लगाई 15 साल बाद सेंध
भारत- चीन सीमा विवाद पर बोले थल सेना प्रमुख, "स्थिति स्थिर, लेकिन अप्रत्याशित है"
रूस की यात्रा पूरी करने के बाद ऑस्ट्रिया पहुंचे PM मोदी, ये है पूरा शेड्यूल
Next Article
रूस की यात्रा पूरी करने के बाद ऑस्ट्रिया पहुंचे PM मोदी, ये है पूरा शेड्यूल
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;