विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 13, 2023

शरद यादव के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाना उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी : बेटी सुभाषिनी

सुभाषिनी ने कहा, ‘‘उन्होंने (शरद यादव) जिस तरह से समाज के लिए काम किया, शायद वह उन चंद लोगों में से एक हैं, जिन्होंने हमेशा पिछड़े वर्ग पर ध्यान केंद्रित किया. मुझे उम्मीद है कि मैं और मेरा भाई उनकी विरासत को आगे बढ़ा पाएंगे.’’

Read Time: 3 mins
शरद यादव के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाना उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी : बेटी सुभाषिनी
शरद यादव का गुरुवार को गुरुग्राम के एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली. (फाइल)
नई दिल्‍ली:

वरिष्ठ नेताओं और समर्थकों द्वारा प्रख्यात समाजवादी नेता शरद यादव (Sharad Yadav) के निधन को एक युग का अंत करार दिए जाने के बीच उनकी बेटी सुभाषिनी ने कहा कि उनके (शरद यादव) दृष्टिकोण को आगे बढ़ाना ही उन्हें सच्ची श्रद्धाजंलि होगी. सुभाषिनी ने कहा कि उनके पिता शरद यादव हजारों दबे-कुचले लोगों की आवाज बने. उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि यादव के समान विचारधारा वाले दलों को एक साथ लाने समेत अन्य विचारों को आगे बढ़ाया जाना चाहिए. 

सुभाषिनी ने कहा, ‘‘यह हमारे लिए बहुत दुखद दिन है. वह सिर्फ हमारे पिता नहीं थे, वह ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने हजारों दबे-कुचलों को आवाज दी. उन्होंने पिछड़ों और दलित वर्गों से संबंधित मुद्दों को उठाया ... उन्होंने ‘मंडल' रिपोर्ट के कार्यान्वयन को सुनिश्चित किया और यही कारण है कि उन्हें ‘मंडल मसीहा' कहा जाता था.''

उन्होंने कहा कि उनके पिता ने समाज के लिए काम किया और पिछड़े वर्गों पर ध्यान केंद्रित किया. 

सुभाषिनी ने कहा, ‘‘उन्होंने (शरद यादव) जिस तरह से समाज के लिए काम किया, शायद वह उन चंद लोगों में से एक हैं, जिन्होंने हमेशा पिछड़े वर्ग पर ध्यान केंद्रित किया. मुझे उम्मीद है कि मैं और मेरा भाई उनकी विरासत को आगे बढ़ा पाएंगे... न सिर्फ राजनीति के लिहाज से, बल्कि एक अच्छा इंसान बनकर भी, जो बहुत जरूरी है.''

उन्होंने कहा, ‘‘लोग महसूस कर रहे हैं कि एक युग का समापन हो रहा है और एक खालीपन पैदा हो गया है. खालीपन को भरना हम पर निर्भर करता है. मैं स्थान लिए जाने के बारे में बात नहीं कर रही हूं, मैं इस विचार के बारे में बात कर रही हूं कि समान विचारधारा वाले लोगों को एक मंच पर साथ आना चाहिए.''

सुभाषिनी ने कहा, ‘‘अगर हम गरीब और पिछड़े वर्ग के लिए काम करेंगे तो यही मेरे पिता के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी.''

दिग्गज समाजवादी नेता शरद यादव ने बृहस्पतिवार को गुरुग्राम के एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली. वह 75 वर्ष के थे. 

ये भी पढ़ें :  

* लालू यादव को पहली बार मुख्यमंत्री बनाने में शरद यादव का था बड़ा योगदान
* अमित शाह और राहुल गांधी समेत कई बड़े नेताओं ने आवास पर पहुंचकर शरद यादव को दी श्रद्धांजलि
* "शरद भाई.. ऐसे अलविदा नहीं कहना था": लालू यादव सहित बिहार के नेताओं ने दिवंगत शरद यादव को ऐसे किया याद

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी को मिलेंगे कई अधिकार, जानिए क्‍यों बेहद अहम है ये पद
शरद यादव के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाना उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी : बेटी सुभाषिनी
अयोध्या के राम मंदिर में अब कोई दर्शनार्थी नहीं होगा वीआईपी, सब भक्त होंगे एक समान 
Next Article
अयोध्या के राम मंदिर में अब कोई दर्शनार्थी नहीं होगा वीआईपी, सब भक्त होंगे एक समान 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;