विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 27, 2011

'संसद पारम्परिक तरीकों का अनुसरण करे, जरूरी नहीं'

नई दिल्ली: लोकसभा में लोकपाल मुद्दे पर चली आठ घंटे की बहस का जवाब देते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शनिवार को कहा कि संसद के लिए 'यह आवश्यक नहीं है कि वह कानून बनाने के पारम्परिक' तरीकों का अनुसरण करे। मुखर्जी ने कहा, "भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। यह एक जीवंत लोकतंत्र है।" उन्होंने कहा कि यह आवश्यक नहीं है कि कानून बनाने के लिए संसद पारम्परिक तरीके का अनुसरण करे। उन्होंने कहा कि सरकार और टीम अन्ना के बीच सम्वादहीनता आ गई थी। इस मौके पर सदन में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, वरिष्ठ मंत्री और विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता मौजूद थे।

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
NEET-UG परीक्षा मामला : छात्रों ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री को चिट्ठी लिखी, सुप्रीम कोर्ट का आदेश नहीं मानने का आरोप
'संसद पारम्परिक तरीकों का अनुसरण करे, जरूरी नहीं'
प्राइवेट नौकरियों में लोकल को 100 फीसदी आरक्षण, कितना हकीकत, कितना 'फंसाना'
Next Article
प्राइवेट नौकरियों में लोकल को 100 फीसदी आरक्षण, कितना हकीकत, कितना 'फंसाना'
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;