"पर्यवेक्षकों की विधायकों से बात के बाद ही तय होगा कोई नाम", कर्नाटक में कौन होगा सीएम, के सवाल पर बोले कांग्रेस अध्यक्ष खरगे

मल्लिकार्जुन खरगे को दिल्ली से आज रात ही बेंगलुरू लौटना है. ऐसे में आज रात या कल तड़के तक कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद पर फैसला होने की उम्मीद की जा रही है. 

नई दिल्‍ली :

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की शानदार जीत के बाद अब पार्टी ने मुख्‍यमंत्री चुनने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. इसके लिए पार्टी की ओर से तीन पर्यवेक्षकों को नियुक्‍त किया गया है. कांग्रेस अध्‍यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि हमने तीन पर्यवेक्षकों को नियुक्‍त किया है. वह विधायकों से बात करेंगे और रिपोर्ट देंगे. उसके बाद मुख्‍यमंत्री का चयन हो जाएगा. इसके साथ ही खरगे ने कहा कि मुख्‍यमंत्री को लेकर कोई विवाद नहीं है. बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बहुमत हासिल करने के बाद ही मुख्‍यमंत्री को लेकर अटकलें लगनी शुरू हो चुकी हैं. पूर्व मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया और पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष डीके शिवकुमार मुख्‍यमंत्री पद के सबसे बड़े दावेदार माने जा रहे हैं. 

कांग्रेस अध्‍यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री सुशील कुमार शिंदे, एआईसीसी के महासचिव जितेंद्र सिंह और एआईसीसी के पूर्व महासचिव दीपक बाबरिया को पर्यवेक्षक बनाया है. कांग्रेस की आज बेंगलुरु में अहम बैठक होने जा रही है, जिसमें कांग्रेस विधायक दल एक प्रस्‍ताव पारित कर सकता है, जिसमें कांग्रेस अध्‍यक्ष पर मुख्‍यमंत्री चुनने का फैसला छोड़ा जा सकता है. 

18 मई को होगा शपथ ग्रहण!

सूत्रों के मुताबिक, कर्नाटक में 18 मई को शपथ ग्रहण समारोह होगा. इसमें सोनिया गांधी के साथ ही राहुल गांधी और प्रियंका गांधी भी शामिल होंगे. सूत्रों ने बताया कि शपथ ग्रहण समारोह के लिए समान विचारधारा वाले दलों को निमंत्रण भेजा जाएगा. 

कल तक हो सकता है ऐलान 

मल्लिकार्जुन खरगे दिल्‍ली पहुंच चुके हैं. सूत्रों के मुताबिक, कर्नाटक का मुख्‍यमंत्री चुनने के लिए खरगे, राहुल गांधी और सोनिया गांधी से विचार-विमर्श करेंगे. उन्‍हें दिल्ली से आज रात ही बेंगलुरू लौटना है. ऐसे में आज रात या कल तड़के तक कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद पर फैसला होने की उम्मीद की जा रही है. 

कांग्रेस की जबरदस्‍त जीत 

बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 136 सीटें जीती हैं, जो 2018 की तुलना में 56 अधिक है. वहीं बीजेपी का वोट शेयर पिछले चुनाव के जितना ही है, लेकिन उसकी सीटें काफी कम हुई हैं. बीजेपी इस चुनाव में सिर्फ 66 सीट ही जीत सकी है. 

ये भी पढ़ें :

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

* "बीजेपी ने धन बल का इस्तेमाल कर मुझे हराया" : कर्नाटक चुनाव परिणाम पर बोले जगदीश शेट्टार
* कर्नाटक का CM कौन? जवाब तलाशने के लिए सुशील कुमार शिंदे समेत 3 ऑब्जर्वर नियुक्त
* चुनावी जीत से कांग्रेस को अगले साल कर्नाटक में होने वाले राज्यसभा चुनाव में मिलेगी मदद