विज्ञापन
Story ProgressBack

धनखड़ को खरगे का पत्र : सांसदों का निलंबन पूर्व नियोजित था, दिल्ली से बाहर होने के कारण नहीं मिल सकता

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वह फिलहाल दिल्ली से बाहर हैं और वापस आते ही सभापति से मिलना उनके लिए सम्मान की बात होगी और यह उनका कर्तव्य भी है. 

Read Time: 17 mins
धनखड़ को खरगे का पत्र : सांसदों का निलंबन पूर्व नियोजित था, दिल्ली से बाहर होने के कारण नहीं मिल सकता
धनखड़ ने खरगे को बातचीत के लिए अपने आवास पर आमंत्रित किया था. (फाइल)
नई दिल्ली :

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे (Mallikarjun Kharge) ने राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) को जवाबी पत्र लिखकर कहा है कि विपक्षी सांसदों का सामूहिक निलंबन पूर्व नियोजित था और संसदीय परंपराओं को नुकसान पहुंचाने के लिए सत्तारूढ़ दल द्वारा इसका हथियार के रूप में इस्तेमाल किया गया. उन्होंने धनखड़ द्वारा बातचीत के बुलावे पर कहा कि वह दिल्ली में नहीं हैं. उपराष्ट्रपति धनखड़ ने गत 23 दिसंबर को खरगे को लिखे पत्र में कहा था कहा कि सदन में शीतकालीन सत्र में व्यवधान इरादतन और रणनीति के तहत था. 

Advertisement

धनखड़ ने पत्र में कहा था, ‘‘इस प्रकरण में मुख्य विपक्षी दल की पूर्व नियोजित भूमिका की ओर इंगित करके मैं आपको शर्मिंदा नहीं करना चाहता, लेकिन जब कभी भी मुझे आपसे बातचीत करने का अवसर मिलेगा मैं आपसे वह साझा अवश्य करूंगा.''

धनखड़ ने खरगे को संसद में व्यवधान और विपक्षी सांसदों के निलंबन के मुद्दे पर बातचीत के लिए 25 दिसंबर को अपने आवास पर आमंत्रित किया था. 

Advertisement

शीतकालीन सत्र के खत्म होने के बाद भी धनखड़ और खरगे के बीच पत्राचार हुआ था. 

खरगे ने 24 दिसंबर की तिथि वाले अपने जवाबी पत्र में कहा कि वह सभापति की इस बात से सहमत हैं कि अब आगे बढ़ने की जरूरत है, लेकिन उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि ‘‘अगर सरकार सदन चलाने की इच्छुक नहीं है तो इसका हल सभापति के कक्ष में चर्चा करने से नहीं निकल सकता.''

Advertisement

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वह फिलहाल दिल्ली से बाहर हैं और वापस आते ही सभापति से मिलना उनके लिए सम्मान की बात होगी और यह उनका कर्तव्य भी है. 

Advertisement

पत्र में सभापति द्वारा उल्लेखित कुछ बिंदुओं का जवाब देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया कि विपक्षी सांसदों का निलंबन बिना सोच विचार के कर दिया गया तथा सदन में संरक्षक के रूप में सभापति को संसद के भीतर सरकार को जवाबदेह ठहराने के लोगों के अधिकार की रक्षा करनी चाहिए. 

निलंबन को हथियार की तरह इस्‍तेमाल करने का आरोप 

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि सत्तापक्ष ‘‘लोकतंत्र को कमजोर करने, संसदीय परंपराओं को नष्ट करने और संविधान का गला घोंटने'' के लिए सांसदों के निलंबन को हथियार की तरह इस्तेमाल कर रहा है. जवाबी पत्र में खरगे ने यह भी कहा कि सभापति का पत्र ‘‘दुर्भाग्य से संसद के प्रति सरकार के निरंकुश और अहंकारी रवैये को उचित ठहराता है.'' उनका कहना था, ‘‘विपक्ष की आवाज को दबाने के लिए विशेषाधिकार प्रस्तावों को भी हथियार बनाया गया है. यह संसद को कमजोर करने के लिए सत्तापक्ष द्वारा जानबूझकर तैयार की गई रणनीति है. सांसदों को निलंबित करके सरकार कुल मिलाकर 146 सांसदों के क्षेत्रों के मतदाताओं की आवाज को चुप करा रही है.''

निलंबन पूर्व निर्धारित प्रतीत होता है : खरगे 

खरगे ने पत्र में कहा, ‘‘आपने यह भी उल्लेख किया है कि सदन में अव्यवस्था इरादतन और पूर्व निर्धारित थी. मैं यह कहना चाहूंगा कि संसद के दोनों सदनों से विपक्षी सांसदों का सामूहिक निलंबन सरकार द्वारा पूर्व निर्धारित और पूर्व नियोजित प्रतीत होता है. मुझे यह कहते हुए बहुत दुख हो रहा है कि बिना सोचे-समझे इसे अंजाम दे दिया गया. ‘इंडिया' गठबंधन से संबंधित एक सदस्य को तो तब निलंबित कर दिया गया जब वह सदन में मौजूद भी नहीं थे.''

संसद सत्र के दौरान 146 सांसदों का निलंबन 

सदन में तख्तियां लहराने और नारे लगाने के आरोप में शीतकालीन सत्र में कुछ दिनों के भीतर ही 146 सांसदों को लोकसभा और राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया. इनमें से ज्यादातर सदस्यों को शीतकालीन सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित किया गया था और सत्र समाप्ति के बाद उनका निलंबन भी स्वत: ही समाप्त हो चुका है, लेकिन कुछ सदस्यों के मामले को विशेषाधिकार समिति के विचारार्थ भेजा गया था और समिति की रिपोर्ट आने तक उनका निलंबन जारी रहेगा. 

शीतकालीन सत्र के लिए दोनों सदनों की बैठक बृहस्पतिवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई. विपक्षी सांसद 13 दिसंबर को संसद की सुरक्षा में हुई चूक की घटना को लेकर गृह मंत्री अमित शाह से बयान की मांग को लेकर दोनों सदनों में नारेबाजी कर रहे थे. 

ये भी पढ़ें :

* "एक बच्चे की तरह रोना...": मिमिक्री विवाद के बीच तृणमूल सांसद का जगदीप धनखड़ पर तंज
* ‘इंडिया' गठबंधन में लाने के लिए बसपा से कोई बातचीत नहीं हो रही : रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी
* उपराष्ट्रपति ने यूपी के CM योगी को बताया 'पर्सन ऑफ एक्शन', कहा- उनकी लीडरशिप में कानून का राज

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
अंडरवर्ल्ड डॉन से कनेक्शन रखने वाले दादा ने ली पोर्शे से 2 लोगों को रौंदने वाले पोते की गारंटी
धनखड़ को खरगे का पत्र : सांसदों का निलंबन पूर्व नियोजित था, दिल्ली से बाहर होने के कारण नहीं मिल सकता
भीलवाड़ा भट्टीकांड : पॉक्सो कोर्ट ने 7 आरोपियों को किया बरी, 2 दोषियों पर फैसला सुरक्षित
Next Article
भीलवाड़ा भट्टीकांड : पॉक्सो कोर्ट ने 7 आरोपियों को किया बरी, 2 दोषियों पर फैसला सुरक्षित
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;