विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 12, 2023

केरल निवासी महिला की मां को बेटी को फांसी से बचाने के लिए यमन जाने की अनुमति मिली

अदालत ने कहा कि व्यक्ति के हलफनामे में कहा गया है कि वह निमिषा प्रिया की मां के साथ यमन की यात्रा करने के लिए तैयार है ताकि उन्हें संबंधित अधिकारियों के साथ बातचीत करने में मदद मिल सके.

केरल निवासी महिला की मां को बेटी को फांसी से बचाने के लिए यमन जाने की अनुमति मिली
यमन की अदालत ने निमिषा की अपील खारिज कर दी थी और फांसी की सजा को बरकरार रखा था.
नई दिल्ली:

दिल्ली उच्च न्यायालय ने यमन के एक नागरिक की हत्या के मामले में वहां फांसी की सजा की सामना कर रही केरल निवासी एक महिला की मां को मृतक के परिवार के साथ ‘ब्लड मनी' समझौते के लिए इस पश्चिम एशियाई देश की यात्रा करने की मंगलवार को अनुमति दे दी. ‘ब्लड मनी' उस व्यक्ति के परिवार को मुआवजे के रूप में दी जाने वाली रकम है जिसकी हत्या की गई है.

न्यायमूर्ति सुब्रमण्यम प्रसाद ने केंद्र को 2017 की अपनी उस अधिसूचना में याचिकाकर्ता के लिए ढील देने का निर्देश दिया, जिसके तहत भारतीय पासपोर्ट धारकों के यमन की यात्रा करने पर रोक लगा दी गई थी.

याचिकाकर्ता ने अपने हलफनामे में कहा है कि वह अपनी बेटी की रिहाई के लिए बातचीत करने के वास्ते अन्य व्यक्ति के साथ अपने जोखिम पर अशांत देश में जाएगी, और इसमें भारत सरकार या संबद्ध राज्य सरकार की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी.

उच्च न्यायालय, यमन में हत्या के मामले में दोषी करार दी गई निमिषा प्रिया की मां की याचिका पर सुनवाई कर रहा था, जिन्होंने अपनी और तीन अन्य की यमन यात्रा की अनुमति देने का अनुरोध किया था ताकि वे एक समझौते तक पहुंचने के लिए मृतक के परिवार से बाचतीत कर सकें.

प्रिया की मां प्रेमा कुमारी के वकील ने एक दिन पहले न्यायमूर्ति सुब्रमण्यम प्रसाद को बताया था कि यमन के उच्चतम न्यायालय ने उसे मृतक के परिवार को मुआवजे की राशि देकर उनसे क्षमादान प्राप्त कर फांसी की सजा से बचने का अंतिम विकल्प दिया था.

यमन की अदालत ने 13 नवंबर को निमिषा की अपील खारिज कर दी थी और फांसी की सजा को बरकरार रखा था.

प्रिया को तलाल अब्दो माहदी की हत्या के मामले में दोषी करार दिया गया था. प्रिया ने माहदी के कब्जे से अपना पासपोर्ट वापस लेने के लिए उसे नशीली दवा वाला इंजेक्शन दिया था, जिससे जुलाई 2017 में उसकी मौत हो गई थी.

याचिका में, अदालत से याचिकाकर्ता, प्रिया की 10 वर्षीय बेटी और परिवार के दो अन्य वयस्क सदस्यों को यमन जाने की अनुमति देने का अनुरोध किया गया, ताकि वे मृतक के परिवार के साथ समझौता कर उसे (प्रिया को) बचा सकें.

प्रिया की मां ने अपनी बेटी को बचाने के लिए ‘ब्लड मनी' पर बातचीत करने को लेकर इस साल की शुरुआत में उच्च न्यायालय का रुख कर यमन जाने देने की अनुमति मांगी थी, जबकि भारतीय नागरिकों के लिए यात्रा प्रतिबंध है.

सुनवाई के दौरान केंद्र के वकील ने अदालत को बताया कि सरकार ने 26 सितंबर 2017 को एक अधिसूचना जारी की थी जिसमें कहा गया है कि भारतीय पासपोर्ट धारक इस हिंसाग्रस्त देश की यात्रा नहीं कर सकते.

अदालत ने मौखिक रूप से कहा कि अपनी बेटी को फांसी से बचाने की आखिरी कोशिश करने वाली मां के प्रति केंद्र की ओर से इतनी अनिच्छा क्यों होनी चाहिए.

याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील सुभाष चंद्रन के.आर. ने अदालत को बताया कि जो दूसरा व्यक्ति प्रिया की मां के साथ यात्रा करेगा, उसके पास यमन का वैध वीजा है और वह 24 साल से अधिक समय से वहां काम कर रहा है.

याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि वे अपने जोखिम पर यात्रा करेंगे.

अदालत ने कहा कि व्यक्ति के हलफनामे में कहा गया है कि वह निमिषा प्रिया की मां के साथ यमन की यात्रा करने के लिए तैयार है ताकि उन्हें संबंधित अधिकारियों के साथ बातचीत करने में मदद मिल सके.

अदालत ने याचिकाकर्ता को यात्रा और वापसी की तारीख बताते हुए एक हलफनामा दाखिल करने को कहा और याचिका का निस्तारण कर दिया.

ये भी पढ़ें- अक्टूबर महीने में औद्योगिक उत्पादन 11.7 प्रतिशत बढ़ा, 16 महीने का उच्चस्तर

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
पुरानी पेंशन स्कीम को दोबारा लागू करना मुमकिन नहीं, इससे आम लोगों पर पड़ेगा नेगेटिव असर : वित्त सचिव
केरल निवासी महिला की मां को बेटी को फांसी से बचाने के लिए यमन जाने की अनुमति मिली
INS ब्रह्मपुत्र में भीषण आग... जानिए 23 साल पहले कमीशन हुए युद्धपोत की खास बातें
Next Article
INS ब्रह्मपुत्र में भीषण आग... जानिए 23 साल पहले कमीशन हुए युद्धपोत की खास बातें
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;