झारखंड : सियासी अनिश्चितता की स्थिति के बीच राज्‍यपाल से मिले CM हेमंत सोरेन, पत्र सौंपकर की यह मांग...

हेमंत सोरेन की ओर से सौंपे गए इस पत्र में कहा गया है, "फरवरी 2002 से ही बीजेपी द्वारा यह भूमिका रची जा रही है कि पत्‍थर खनन पट्टा लिए जाने के आधार पर मुझे विधानसभा की सदस्‍यता से अयोग्‍य ठहरा दिया जाए."

झारखंड : सियासी अनिश्चितता की स्थिति के बीच राज्‍यपाल से मिले CM हेमंत सोरेन, पत्र सौंपकर की यह मांग...

झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने राज्‍यपाल रमेश बैंस से मुलाकात की

अवैध खनन मामले में झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Shoren)को अयोग्‍य घोषित करने की चुनाव आयोग की सिफारिश के चलते राज्‍य में तीन सप्‍ताह से सियासी अनिश्चितता का दौर जारी है. इस राजनीतिक अनिश्चितता के बीच सीएम हेमंत सोरेन ने गुरुवार को राज्‍यपाल रमेश बैस से मुलाकात की. सीएम सोरेन ने एक ट्वीट के जरिये यह जानकारी दी. उन्‍होंने लिखा, "आज राजभवन में राज्‍यपाल रमेश बैंस (Governor Ramesh Bains)से मुलाकात कर राज्य में विगत तीन सप्ताह से अधिक समय से उत्पन्न अनापेक्षित और दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थितियों की अनिश्चितता को दूर करने हेतु पत्र सौंपा जिससे इस भ्रम की स्थिति में भाजपा द्वारा किये जा रहे अनैतिक प्रयास से उसे रोका जा सके." गौरतलब है कि इससे पहले भी राज्य में जारी राजनीतिक अनिश्चितता पर रुख स्‍पष्‍ट करने की मांग को लेकर जेएमएम-कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मिल चुका है. 

हेमंत सोरेन की ओर से सौंपे गए इस पत्र में कहा गया है, "फरवरी 2002 से ही बीजेपी द्वारा यह भूमिका रची जा रही है कि पत्‍थर खनन पट्टा लिए जाने के आधार पर मुझे विधानसभा की सदस्‍यता से अयोग्‍य ठहरा दिया जाए. इस संबंध में बीजेपी द्वारा भवदीय के समक्ष शिकायत भी दर्ज की गई थी.' पत्र के आखिर में लिखा गया है," राज्‍य के संवैधानिक प्रमुख के नाते भवदीय से संविधान और लोकतंत्र में महती भूमका की अपेक्षा की जाती है. अनुरोध है कि निर्वाचन आयोग के मंतव्‍य की एक प्रति उपलब्‍ध कराई जाए और यथाशीध्र युत्तियुक्‍त सुनवाई का अवसर प्रदान किया जाए ताकि स्‍वस्‍थ लोकतंत्र के लिए घातक अनिश्चितता का वातावरण दूर किया जा सके और झारखंड राज्‍य उन्‍नति, प्रगति और विकास के मार्ग पर बढ़ सके."

गौरतलब है कि झारखंड के विपक्षी दल बीजेपी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ लाभ के पद के मामले में निर्वाचन आयोग में याचिका दायर की थी. निर्वाचन आयोग ने 25 अगस्त को राज्य के राज्यपाल रमेश बैस को अपनी सिफारिश भेज दी है. 

* शराब घोटाले पर AAP के ख़िलाफ़ BJP ने जारी किया दूसरा स्टिंग VIDEO
* लखीमपुर खीरी केस : आरोपियों ने पहले लड़कियों से दोस्ती की और फिर रेप के बाद हत्या कर दी - पुलिस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महाराष्ट्र के अहमदनगर में लंपी वायरस का कहर