'भारत का लोकतंत्र किसी भी अन्य देश से बेहतर': महबूबा मुफ्ती के बयान पर बोले जितेंद्र सिंह

उधमपुर से लोकसभा सदस्य सिंह ने कहा, 'लेकिन मुझे इस बात की चिंता है कि इस तरह की टिप्पणियों को व्यक्त करने वाली मानसिकता संभवतः इस तथ्य को स्वीकार करने की अनिच्छा से प्रेरित है कि जम्मू कश्मीर भारत का हिस्सा है.'

नई दिल्ली:

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने मंगलवार को पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) प्रमुख महबूबा मुफ्ती पर निशाना साधते हुए कहा कि दुनिया के किसी अन्य देश के मुकाबले भारत में बेहतर लोकतंत्र है. मुफ्ती ने सोमवार को ट्वीट किया था, 'गर्व का क्षण है कि ब्रिटेन में भारतीय मूल का कोई व्यक्ति प्रधानमंत्री होगा. जब पूरा भारत सही मायने में जश्न मना रहा है तो यह याद रखना हमारे लिए अच्छा होगा कि ब्रिटेन ने एक जातीय अल्पसंख्यक को अपने प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार किया है, लेकिन हम अब भी एनआरसी और सीएए जैसे विभाजनकारी एवं भेदभावपूर्ण कानूनों से बंधे हुए हैं.'

जितेंद्र सिंह ने संवाददाताओं से कहा, 'जो कोई भी स्वतंत्र भारत के इतिहास और भारतीय लोकतंत्र के इतिहास से परिचित है, उसे इसमें कोई संदेह नहीं होगा कि भारत में लोकतंत्र दुनिया के किसी भी देश की तुलना में कहीं बेहतर है.' उन्होंने कहा कि उदाहरण के लिए, भारत में एक से अधिक राष्ट्रपति या तो अल्पसंख्यक समुदाय या कमजोर तबके से रहे हैं.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'मुझे यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि (अटल बिहारी) वाजपेयी सरकार के दौरान, हमारे पास भारत के राष्ट्रपति के रूप में एपीजे अब्दुल कलाम थे. प्रधानमंत्री (नरेंद्र) मोदी के सत्ता संभालने के बाद, हमारे पास रामनाथ कोविंद थे और अब हमारे पास (द्रौपदी) मुर्मू हैं.''

उन्होंने कहा, 'संयोग से, वे सभी या तो अल्पसंख्यक वर्ग से हैं या कमजोर वर्ग से हैं, और अगर आपको लगता है कि जम्मू कश्मीर भी भारत का हिस्सा है, तो मुझे लगता है कि हर कोई स्वीकार करेगा कि (भारत के) राष्ट्रपति जम्मू कश्मीर के भी हैं.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उधमपुर से लोकसभा सदस्य सिंह ने कहा, 'लेकिन मुझे इस बात की चिंता है कि इस तरह की टिप्पणियों को व्यक्त करने वाली मानसिकता संभवतः इस तथ्य को स्वीकार करने की अनिच्छा से प्रेरित है कि जम्मू कश्मीर भारत का हिस्सा है.' मंत्री से पीडीपी प्रमुख और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती की टिप्पणी पर जवाब देने का आग्रह किया गया था.