विज्ञापन
Story ProgressBack

हरियाणा-दिल्ली के बीच रार, आखिर कहां गायब हो रहा 20 पर्सेंट पानी?

अधिकारियों की मानें तो हरियाणा ने रविवार को मुनक नहर से दिल्ली (Water Crisis) के लिए 1161 क्यूसेक पानी छोड़ा था. जब कि छोड़ना सिर्फ 1050 क्यूसेक पानी होता है. मतलब तय मात्रा से ज्यादा पानी छोड़ा गया, लेकिन कुल 960.78 क्यूसेक पानी ही बवाना तक पहुंच सका.

Read Time: 5 mins
हरियाणा-दिल्ली के बीच रार, आखिर कहां गायब हो रहा 20 पर्सेंट पानी?
Delhi Water Crisis: दिल्ली-हरियाणा में पानी पर ठनी. (फाइल फोटो)
नई दिल्ली:

भीषण गर्मी के बीच दिल्ली पानी के लिए तरस रहा है, लेकिन हरियाणा उसे पानी नहीं दे रहा, ये आरोप दिल्ली सरकार का है. लेकिन अधिकारियों का कहना है कि हरियाणा ने तो पानी छोड़ा था लेकिन 20 परसेंट के करीब पानी रास्ते में ही गायब हो गया. अब सवाल ये है कि आखिर गायब पानी से कौन अपनी प्यास बुझा रहा है. दिल्ली में जारी जल संकट (Delhi Water Crisis) के बीच हरियाणा और दिल्ली में ठनी हुई है. भीषण गर्मी के बीच राजधानी दिल्ली इन दिनों पानी के भीषण संकट से जूझ रही है. सुप्रीम कोर्ट के पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश को 137 क्यूसेक पानी दिल्ली के लिए छोड़ने का आदेश दिया था. लेकिन अदालत के आदेश के बावजूद भी दिल्ली को पानी नहीं मिल पा रहा है. इस पर दिल्ली सरकार ने चिंता जताई है.

ये भी पढ़ें- मुनक नहर के जरिए दिल्ली के हिस्से का 1,050 क्यूसेक पानी नहीं छोड़ रहा हरियाणा : आतिशी

दिल्ली के हक के पानी से बुझ रही किसकी प्यास?

दिल्ली सरकार का कहना है कि इन पानी के दिल्ली तक पहुंचने की राह में सबसे बड़ा रोड़ा है हरियाणा. जब कि अदालत ने  हरियाणा से भी साफ शब्दों में कहा था कि वह दिल्ली तक पानी पहुंचाने में पूरा सहयोग करे. इस पानी की बर्बादी न हो, इस बात का भी पूरा ध्यान रखा जाए. दिल्ली सरकार का आरोप है कि यह अतिरिक्त पानी दिल्ली को अब तक नहीं मिल सका है. इस मुद्दे पर दिल्ली सरकार की मंत्री आतिशी और सौरभ भारद्वाज ने एलजी विनय सक्सेना संग बातचीत भी की. हालांकि एलजी संग हुई बैठक में अधिकारियों ने दावा किया कि हरियाणा तय मात्रा से ज्यादा पानी मुनक नहर में छोड़ रहा है लेकिन करीब 20 परसेंट पानी रास्ते में भी गायब हो रहा है. सवाल ये है कि आखिर पानी जा कहां रहा है. 

Latest and Breaking News on NDTV

Photo Credit: Canva

कहां गायब हो रहा 20 प्रतिशत पानी?

अधिकारियों की मांग है कि पानी की भीषण किल्लत के बीच बवाना तक आते-आते इतने ज्यादा पानी के गायब होने का पता लगाना बहुत जरूरी है. जिसके बाद एलजी ने हरियाणा को गायब हो रहे पानी का पता लगाने का आदेश दिया. अपर यमुना रिवर बोर्ड के अधिकारियों ने  दिल्ली-हरियाणा के अधिकारियों संग रविवार को मुनक नहर का निरीक्षण भी किया था. जिससे पता चला है कि हरियाणा पानी तो छोड़ रहा है लेकिन ये दिल्ली तक पहुंच नहीं रहा. 18 से 20 परसेंट पानी रास्ते में ही गायब हो रहा है, जो चिंता का विषय है. 

Latest and Breaking News on NDTV

पानी पर हरियाणा-दिल्ली में रार

अधिकारियों की मानें तो हरियाणा ने रविवार को मुनक नहर से दिल्ली के लिए 1161 क्यूसेक पानी छोड़ा था. जब कि छोड़ना सिर्फ 1050 क्यूसेक पानी होता है. मतलब तय मात्रा से ज्यादा पानी छोड़ा गया, लेकिन कुल 960.78 क्यूसेक पानी ही बवाना तक पहुंच सका. 18 प्रतिशत यानी कि कुल 200 क्यूसेक पानी रास्ते में भी गायब हो गया. अब सवाल ये है कि इतना पानी गया कहां. अधिकारियों का मानना है कि 5 प्रतिशत से ज्यादा पानी कम नहीं होना चाहिए. ये पहली बार नहीं है जब पानी गायब होने का मुद्दा उठाया गया है. 5 जून को हुई बैठक में ही अधिकारियों ने पानी गायब होने का मुद्दा उठाया था. 

Latest and Breaking News on NDTV

पानी की लीकेज या चोरी?

मुनक ही वो नहर है, जिसके जरिए दिल्ली के 9 वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट्स में से 7 को पानी मिलता है. दिल्ली की नहरों की मरम्मत नहीं हुई है, जिस वजह से पानी लीक हो रहा है. वहीं कई जगहों पर टैंकरों के जरिए जमाखोर पानी चोरी करने में जुटे हुए हैं. पानी चोरी होने की तस्वीरें भी बैठक में शेयर की गई हैं. एलजी ने लीकेज का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पाइपलाइन की मरम्मत नहीं होने की वजह से बहुत ज्यादा पानी बर्बाद हो जाता है. मंत्रियों ने जलबोर्ड के साथ योजना तैयार कर रोकने की बात कही है. 

Latest and Breaking News on NDTV

क्या है दिल्ली सरकार का आरोप?

मंत्री आतिशी का कहना है कि हरियाणा अब भी पानी की राह में रोड़ा बना हुआ है और मुनक नहर के जरिए राजधानी के लोगों को उनके हिस्से का 1,050 क्यूसेक पानी देने को तैयार नहीं है. आतिशी ने कहा कि हिमातल और हरियाणा के बीच चल रहे विवाद की वजह से हरियाणा ने 140 क्यूसेक तक पानी की कटौती कर दी है. उन्होंने एलजी से हरियाणा से इस मुद्दे पर बात करने की भी अपील की. दिल्ली सरकार का दावा है कि हर साल जून में हरियाणा से मुनक कैनाल से दिल्ली के लिए 1050 क्यूसेक पानी छोड़ा जाता है. इस दौरान 990 क्यूसेक से ज्यादा पानी दिल्ली के एंट्री पॉइंट पर पहुंचता है. लेकिन पिछले एक हफ्ते में बहुत कम पानी ही दिल्ली को मिल रहा है. 7 जून को यह 840 क्यूसेक के स्तर पर था. दिल्ली के साथ ही वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट भी मुनक कैनाल से आने वाले पानी पर निर्भर हैं.  वजीराबाद वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का 30 MGD साफ पानी का प्रोडक्शन कम हुआ है, जिसका दिल्ली पर गंभीर असर हो रहा है.


ये भी पढ़ें- दिल्ली में गहराते जा रहे जल संकट को लेकर आतिशी ने उपराज्यपाल से की मुलाकात

ये भी पढ़ें-प्यासी दिल्ली के लिए SC से गुड न्यूजः हिमाचल छोड़ेगा ज्यादा पानी, हरियाणा नहीं करेगा 'मनमानी'

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही अफवाह से सतर्क रहें नागरिक : जम्मू-कश्मीर पुलिस 
हरियाणा-दिल्ली के बीच रार, आखिर कहां गायब हो रहा 20 पर्सेंट पानी?
हम बुधवार को पटना हाईकोर्ट में एफआईआर दर्ज करने वाले व्यक्ति के खिलाफ जा रहे : पप्पू यादव
Next Article
हम बुधवार को पटना हाईकोर्ट में एफआईआर दर्ज करने वाले व्यक्ति के खिलाफ जा रहे : पप्पू यादव
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;