दिल्ली पुलिस ने हाथ में बने टैटू की मदद से चोर का ढूंढ़ा सुराग, बरामद किए 2.21 करोड़ रुपये के आभूषण

सीसीटीवी फुटेज की गहनता से जांच के दौरान पुलिस को आरोपी के हाथ में एक टैटू बना दिखा. इस टैटू पर "रसराज" लिखा था.

दिल्ली पुलिस ने हाथ में बने टैटू की मदद से चोर का ढूंढ़ा सुराग, बरामद किए 2.21 करोड़ रुपये के आभूषण

दिल्ली पुलिस ने अमृतसर से किया आरोपी को गिरफ्तार

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस ने आरोपी के हाथ पर बने एक टैटू की मदद से ना सिर्फ उसको गिरफ्तार किया है बल्कि लूटे गए 2.21 करोड़ के आभूषण को भी रिकवर किया है. पूरा मामला करोल बाग थाने की है. पुलिस अधिकारी से मिल रही जानकारी के अनुसार घटना 24 जुलाई को करोलबाग इलाके के एक बड़े ज्वैलर संदीप गर्ग के दुकान पर हुई थी. घटना के बाद उन्होंने ई FIR कराई. मामले की जानकारी करोल बाग थाना पुलिस को चलते ही जांच शुरू की गई. जांच के दौरान शिकायतकर्ता के साथ-साथ शोरूम के कर्मचारियों के भी बयान दर्ज किए गए. घटना को लेकर पुलिस की टीम ने शोरूम में लगे सीसीटीवी फुटेज की जांच की साथ ही उन रास्तों का भी पता लगाया गया जिसका आरोपी इस्तेमाल कर सकता था.

खास बात ये थी कि आरोपी ने घटना के समय अपनी पहचान छिपाने के लिए फेस-मास्क पहना हुआ था. ऐसे में पुलिस टीम के लिए आरोपी की पहचान करना ही सबसे बड़ी चुनौती साबित हो रही थी. लेकिन सीसीटीवी फुटेज की गहनता से जांच के दौरान पुलिस को आरोपी के हाथ में एक टैटू बना दिखा. इस टैटू पर "रसराज" लिखा था. पुलिस टीम ने आस-पास के करीब 500 दुकानदारों से पूछताछ के बाद आखिरकार आरोपी की ढूंढ़ निकाला. पुलिस ने आरोपी की पहचान विक्रांत गौरव के तौर पर की गई है. 

पुलिस से मिल रही जानकारी के अनुसार 38 साल का आरोपी विक्रांत गौरव हीरे का कारोबारी है और पश्चिमी दिल्ली के पॉश हाउसिंग सोसाइटी डीएलएफ कैपिटल ग्रीन में रहता था. उसका पंजाब के अमृतसर की पॉश कॉलोनी में भी एक घर है. लॉक डाउन के दौरान उसे ज्वैलरी के कारोबार में घाटा हुआ. उसने कई लोगों से पैसे उधार लिए थे और इस उधार के पैसे को वापस करने के लिए उसने दिल्ली के करोल बाग बाजार के जाने-माने ज्वैलर्स से यहां से गहने चोरी कर उन्हें बेचने की फिराक में था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मध्य दिल्ली की डीसीपी श्वेता चौहान ने बताया कि करोल बाग एसएचओ दीपक कुमार मलिक की देखरेख में विशेष टीम बनाई गई थी. हमारी टीम ने एक बार आरोपी की पहचान करने के बाद पूर्वी पटेल नगर इलाके में आरोपी की घर-घर जाकर पूछतछ शुरू की थी. इस दौरान पता चला कि आरोपी करीब 4 साल पहले दिल्ली के पूर्वी पटेल नगर में रहता था. स्थानीय पूछताछ से आरोपी का पुराना मोबाइल नंबर मिला है. जांच में पता चला कि आरोपी अमृतसर में है. पुलिस ने अमृतसर में आरोपी की पोलो कार का करीब 40 किलोमीटर तक पीछा करने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया. आरोपी की निशानदेही पर अमृतसर से चोरी का सारा माल बरामद हो गया जो 2.12 करोड़ की सोने और हीरे की चूड़ियां थीं.