विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 24, 2011

'भ्रष्ट अधिकारियों को बर्खास्त करने का विचार होगा'

Read Time: 2 mins
नई दिल्ली: भ्रष्टाचार को लेकर अन्ना हजारे के आंदोलन की पृष्ठभूमि में बढ़ रहे सामाजिक दबाव के बीच केन्द्र सरकार एक प्रस्ताव पर विचार कर रही है जिसके तहत भ्रष्टाचार के मामलों में सुनवाई के स्तर पर ही आरोपित भ्रष्ट अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया जाएगा। सरकार ने बुधवार को लोकसभा में बताया कि एक विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों का अध्ययन किया जा रहा है जिसने संविधान के अनुच्छेद 311 में संशोधन का सुझाव दिया है। इससे भ्रष्टाचार के आरोपी सरकारी अधिकारियों के खिलाफ अदालत में सुनवाई शुरू होते ही उन्हें पद से बर्खास्त कर दिया जाएगा। कार्मिक एवं जन शिकायत राज्य मंत्री वी नारायणसामी ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि एक तीन सदस्यीय विशेषज्ञ समिति का गठन किया गया था जिसे अनुशासनात्मक एवं सतर्कता कार्यवाही को तेजी से निपटाने के उपाय सुझाने को कहा गया था। उन्होंने बताया कि सरकार इस समिति की सिफारिशों का अध्ययन कर रही है। उन्होंने बताया कि समिति ने कम सजा वाले अनुशासनात्मक जांच संबंधी मामलों में जांच पूरी करने के लिए दो माह की समय सीमा तथा बड़े मामलों में 12 माह की समय सीमा तय करने का सुझाव दिया है। नारायणसामी ने बताया कि बड़ी सजा के रूप में अनिवार्य सेवानिवृति मामलों में समिति ने संबंधित अधिकारियों की पेंशन और ग्रेज्युटी में कटौती की भी सिफारिश की है।

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
'पुष्पक की हैट-ट्रिक', इसरो ने पुन: प्रयोज्य प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी प्रदर्शन किया पूरा
'भ्रष्ट अधिकारियों को बर्खास्त करने का विचार होगा'
भीषण गर्मी के सितम से जल्द मिलेगी राहत, जानिए देश के कौन से हिस्से में कब होगी बारिश
Next Article
भीषण गर्मी के सितम से जल्द मिलेगी राहत, जानिए देश के कौन से हिस्से में कब होगी बारिश
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;