छत्तीसगढ़ के रामदाहा जलप्रपात में डूबने से तीन पर्यटकों की मौत, तीन अन्य लापता

अधिकारियों के मुताबिक, पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिले से 15 लोगों का एक समूह कोटाडोल थाना क्षेत्र के रामदाहा जलप्रपात पर पिकनिक मनाने पहुंचा था.

कोरिया :

छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में रविवार को पिकनिक मनाने आया मध्य प्रदेश के पर्यटकों का एक समूह उस समय हादसे का शिकार हो गया जब रामदाहा जलप्रपात में स्नान करते समय तीन पर्यटकों की डूबने से मौत हो गयी जबकि तीन अन्य लापता हो गए. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. अधिकारियों के मुताबिक पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिले से 15 लोगों का एक समूह कोटाडोल थाना क्षेत्र के रामदाहा जलप्रपात पर पिकनिक मनाने पहुंचा था. इस समूह के सदस्य संभवत: एक ही परिवार का हिस्सा थे. उन्होंने बताया कि यह जलप्रपात राजधानी रायपुर से करीब 300 किलोमीटर दूर है.

कोरिया के जिलाधिकारी कुलदीप शर्मा ने कहा कि अधिकारियों को सूचना मिली थी कि झरने के कुंड में नहाने के दौरान सात लोग लापता हो गए. जिलाधिकारी कुलदीप शर्मा ने पीटीआई-भाषा से फोन पर कहा, 'जिला प्रशासन और पुलिस की एक टीम को मौके पर भेजा गया और बचाव अभियान शुरू किया गया.'

उन्होंने कहा, 'सात में से दो लोगों को बचाव दल ने ढूंढ लिया और उन्हें पास के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया.'

पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक कुंड से एक पुरुष और महिला को बाहर निकाला गया, जिनमें से रत्नेश सिंह (26) को अस्पताल में चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया जबकि सुरेखा शर्मा (22) की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है.

पुलिस अधिकारी के अनुसार इसके बाद हिमांशु सिंह (18) और सुरेखा के पति ऋषभ सिंह (24) के शव भी बरामद कर लिए गए. उन्होंने कहा कि तीन अन्य लोगों का पता लगाने के लिए तलाश एवं बचाव अभियान जारी है. लापता लोगों की पहचान श्वेता सिंह (22), श्रद्धा सिंह (14) और अभय सिंह (22) के रूप में हुई है.

एक अन्य पुलिस अधिकारी ने बताया कि रात में बचाव अभियान नहीं चलाया जाएगा और सोमवार सुबह फिर से शुरू किया जाएगा. उन्होंने कहा कि लोगों से जलप्रपात में स्नान नहीं करने का अनुरोध करने वाले चेतावनी बोर्ड के लगे होने के बावजूद पर्यटक गहरे पानी में चले गए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पुलिस अधिकारी ने कहा, 'घटना के बारे में अधिक जानकारी और बचाव अभियान के बारे में बाद में पता चलेगा क्योंकि इलाके में समुचित मोबाइल नेटवर्क नहीं है.'
 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)