बीजेपी सांसद मनोज तिवारी का 41 हजार रुपये का कटा चालान, ‘तिरंगा बाइक रैली' में ट्रैफिक नियम तोड़े

दिल्ली यातायात पुलिस ने मध्य दिल्ली के लाल किला इलाके में ‘हर घर तिरंगा’ मोटरसाइकिल रैली के दौरान हेलमेट नहीं पहनने पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद मनोज तिवारी को बुधवार को चालान जारी किया.

बीजेपी सांसद मनोज तिवारी का 41 हजार रुपये का कटा चालान, ‘तिरंगा बाइक रैली' में ट्रैफिक नियम तोड़े

मनोज तिवारी ने ट्विटर पर कहा कि वह जुर्माने का भुगतान करेंगे.

नई दिल्ली:

बीजेपी सांसद मनोज तिवारी एक बार फिर चर्चाओं में हैं. ‘हर घर तिरंगा' मोटरसाइकिल रैली के दौरान उन्होंने हेलमेट नहीं पहन रखी थी. साथ ही वो बिना लाइसेंस के बाइक चला रहे थे और उनके पास पॉल्यूशन सार्टिफिकेट भी नहीं था. बाइक की हाई सिक्युरिटी नम्बर प्लेट भी नहीं थी. जिसके बाद दिल्ली यातायात पुलिस ने उनपर कार्रवाई करते हुए कई जुर्माने लगाए हैं.तिवारी पर बिना हेलमेट के बाइक चलाने पर 1 हजार रुपया, गाड़ी का पॉल्यूशन सार्टिफिकेट नहीं होने पर 10 हजार रुपये. बिना लाइसेंस बाइक चलाने पर 5 हजार रुपये, बाइक की हाई सिक्युरिटी नम्बर प्लेट नहीं होने पर 5 हजार रुपये के जुर्माने लगे हैं. साथ ही  बाइक  मालिक पर 20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है.  दिल्ली ट्रेफिक पुलिस ने सांसद के घर जाकर 41 हज़ार रुपए का चालान किया है.

वहीं पूरे मामले पर तिवारी ने ट्विटर पर कहा कि वह जुर्माने का भुगतान करेंगे. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘आज, हेलमेट नहीं पहनने पर गहरा खेद है. मैं चालान का भुगतान करूंगा. आप सभी से निवेदन है कि बिना हेलमेट पहने दोपहिया वाहन की सवारी नहीं करें.''

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सांसद को बिना हेलमेट पहने, बिना लाइसेंस के और बिना प्रदूषण व पंजीकरण प्रमाणपत्र के मोटरसाइकिल चलाने पर चालान जारी किया गया है. उन्होंने बताया कि दोपहिया वाहन के मालिक का अलग से चालान किया गया है.भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर मनाए जा रहे ‘आजादी का अमृत महोत्सव' के तहत केंद्रीय मंत्रियों और युवा सांसदों सहित कई सांसदों ने बुधवार को लाल किले से शुरू हुई ‘तिरंगा बाइक रैली' में हिस्सा लिया.देश के नागरिकों में देशभक्ति की भावना बढ़ाने के मकसद से यह ‘तिरंगा बाइक रैली' आयोजित की गई.

ये भी पढ़ें-

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क्या ताइवान दूसरा यूक्रेन बनने जा रहा है?