बनिहाल सुरंग हादसा: मृतकों के परिजनों को 16-16 लाख रुपये मुआवजा, जम्मू-कश्मीर प्रशासन का ऐलान

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने सुरंग हादसे में जान गंवाने वाले मजदूरों की मौत पर शोक व्यक्त किया. साथ ही घायलों के लिए बेहतर उपचार व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए. मृतकों में पांच श्रमिक पश्चिम बंगाल के, दो दो श्रमिक जम्मू कश्मीर एवं नेपाल के तथा एक श्रमिक असम का था.

बनिहाल सुरंग हादसा: मृतकों के परिजनों को 16-16 लाख रुपये मुआवजा, जम्मू-कश्मीर प्रशासन का ऐलान

इस हादसे में अब तक कुल 10 मजदूरों की मौत हो चुकी है.

बनिहाल/ जम्मू:

जम्मू-कश्मीर के रामबन जिले में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक निर्माणाधीन सुरंग का हिस्सा ढहने से जान गंवाने वाले 10 मजदूरों के परिजनों को 16-16 लाख रुपये की मुआवजा राशि दी जाएगी. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी.

सुरंग में हुए हादसे के दो दिन बाद शनिवार को मलबे से नौ और शव बरामद किए गए, जिससे इस दुर्घटना में मरने वालों की संख्या बढ़कर 10 हो गई है. अधिकारियों ने बताया कि सभी लापता श्रमिकों के शव बरामद होने के साथ ही दो दिन तक चला बचाव अभियान शनिवार देर शाम समाप्त हो गया.

उनमें पांच श्रमिक पश्चिम बंगाल के, दो दो श्रमिक जम्मू कश्मीर एवं नेपाल के तथा एक श्रमिक असम का था.

उपायुक्त मुसर्रत इस्लाम ने कहा कि उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से मिले निर्देश के अनुसार निर्माण कार्य कर रही कंपनी द्वारा सुरंग हादसे में जान गंवाने वाले मजदूरों के परिजनों को 15-15 लाख रुपये मुआवजा दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि उपराज्यपाल ने भी मृतकों के परिजनों को एक-एक लाख रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की है.

इस बीच, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने सुरंग हादसे में जान गंवाने वाले मजदूरों की मौत पर शोक व्यक्त किया. साथ ही घायलों के लिए बेहतर उपचार व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने इस घटना में लोगों की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया. उमर ने ट्वीट कर कहा, ''बेहद दुर्भाग्यपूर्ण. रामबन में कार्यस्थल पर हुई दुर्घटना में मारे गए दस लोगों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं. शोकाकुल परिवारों को यह दुख सहन करने की शक्ति मिले.''



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)