विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 21, 2017

अयोध्या : विश्व हिंदू परिषद ने रामलला के लिए स्वेटर और हीटर की मांग की

सेंट्रल वक्फ बोर्ड का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का यथास्थिति का ऑर्डर है इसलिए कोई बदलाव नहीं हो सकता, 70 साल बाद मूर्तियों को ठंड लगने का मुद्दा क्यों उठा?

अयोध्या : विश्व हिंदू परिषद ने रामलला के लिए स्वेटर और हीटर की मांग की
प्रतीकात्मक फोटो
लखनऊ: विश्व हिंदू परिषद (व्हीएचपी) ने अयोध्या में विवादित स्थान पर रामलला की मूर्ति पर हीटर लगाने और गर्म कपड़े पहनाने की मांग सरकार से की है. व्हीएचपी का कहना है कि भगवान को जाड़े में ठंड लग रही है..लेकिन सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का वहां यथास्थिति का ऑर्डर है इसलिए वहां कोई बदलाव नहीं हो सकता. यही नहीं वहां मूर्तियां 70 साल से हैं…70 साल बाद मूर्तियों को ठंड लगने का मुद्दा क्यों उठा?

अयोध्या में व्हीएचपी ने अब यह नया मुद्दा छेड़ा है. उसका कहना है कि जाड़े में रामलला को ठंड लग रही है…इसलिए उनकी मूर्ति पर हीटर या अंगीठी लगाई जाए और उन्हें गर्म कपड़े पहनाए जाएं. विहिप ने विवादित स्थान पर केन्द्र सरकार के रिसीवर और फ़ैज़ाबाद के कमिश्नर से यह लिखित मांग की है. विहिप के प्रवक्ता शरद शर्मा ने एनडीटीवी से कहा कि ”तापमान काफी गिर गया है और ठंड काफी बढ़ गई है. ऐसे में रामलला के लिए फौरन हीटर जलाया जाए ताकि रामलला जहां विराजमान हैं उस स्थान को गर्म रखा जा सके. इसके साथ ही भगवान श्री राम के लिए गर्म वस्त्र का इंतजाम किया जाए.”

यह भी पढ़ें : अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट में 8 फरवरी तक टली सुनवाई , सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कहा- 2019 के आम चुनाव के बाद हो सुनवाई

राम जन्मभूमि के पुजारी सत्येंद्र दास को लगता है कि अंगीठी या हीटर से आग लगने का खतरा है इसलिए वहां ब्लोअर या आइल फिल्ड रेडिएटर रूम हीटर जैसी की चीज चलाई जाए. लेकिन सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड का कहना है कि 1993 में एक कानून बना था जिसे सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने भी एप्रूव किया है कि विवादित स्थान पर 7 जनवरी 1993 को जो स्थिति थी, वह बरकरार रखी जाएगी. इसलिए सुप्रीम कोर्ट की इजाजत के बिना वहां कुछ नहीं किया जा सकता.

VIDEO : विवाद पर अंतिम बहस 8 फरवरी से


सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के वकील ज़फ़रयाब जिलानी कहते हैं कि ”मूर्तियां तो वहां 1949 में रख दी गई थीं. इन 70 सालों में 70 जाड़े गुजर गए और मूर्ति को ठंड नहीं लगी. सत्तर साल बाद ठंड क्यों लग रही है? इसमें जरूर व्हीएचपी की कोई चाल है. शुरू में उन्होंने कहा था कि मूर्ति को भोग लगाने की इजाजत दी जाए, क्योंकि बिना भोग के मूर्ति जीवित नहीं रह सकती, तो इसे उनकी आस्था समझ के हमने इसका कोई विरोध नहीं किया. लेकिन अब 70 साल बाद बता रहे हैं कि मूर्ति को जाड़ा लग रहा है यो यह कोई चाल है.”

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
यूपी के अमरोहा में बड़ा रेल हादसा टला, मालगाड़ी के 6 डिब्बे पटरी से उतरे, दिल्ली-लखनऊ लाइन ठप
अयोध्या : विश्व हिंदू परिषद ने रामलला के लिए स्वेटर और हीटर की मांग की
हरियाणा सरकार का अग्निवीर और आम लोगों को लेकर बड़ा ऐलान, जानें क्या करने जा रही भाजपा सरकार
Next Article
हरियाणा सरकार का अग्निवीर और आम लोगों को लेकर बड़ा ऐलान, जानें क्या करने जा रही भाजपा सरकार
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;