कश्मीर में जारी टारगेट किलिंग को लेकर गृहमंत्री अमित शाह से मिले NSA अजीत डोभाल

गुरुवार को अजीत डोभाल ने अमित शाह से मुलाकात (Amit Shah meets with Ajit Doval) की. यह बैठक ऐसे दिन हुई है जब जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में तीन दिनों में घाटी में हिंदुओं पर दूसरे टारगेटेड हमले में राजस्थान के एक बैंक प्रबंधक की एक आतंकवादी ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

कश्मीर में जारी टारगेट किलिंग को लेकर गृहमंत्री अमित शाह से मिले NSA अजीत डोभाल

Amit Shah

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (NSA Ajit Doval) ने आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) से मुलाकात की और कश्मीर में टारगेट हत्याओं की हालिया घटनाओं पर चर्चा की. केंद्रीय राज्य मंत्री, प्रधानमंत्री कार्यालय डॉ जितेंद्र सिंह भी बैठक में शामिल हुए. एनएसए डोभाल अमित शाह से मिलने नॉर्थ ब्लॉक पहुंचे थे.

यह बैठक ऐसे दिन हुई है जब जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में तीन दिनों में घाटी में हिंदुओं पर दूसरे टारगेट हमले में राजस्थान के एक बैंक प्रबंधक की एक आतंकवादी ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

इलाक़ाही देहाती बैंक की अरेह शाखा में घुसकर एक आतंकवादी ने बैंक मैनेजर विजय कुमार को गोली मार दी. सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि हत्यारा शाखा में घुसता है, गोली चलाता है और भाग जाता है. विजय कुमार को अस्पताल ले जाया जा रहा था, लेकिन रास्ते में ही उनकी मौत हो गई.

जम्मू एवं कश्मीर : कुलगाम में राजस्थान के बैंक मैनेजर की आतंकियों ने हत्या की

यह हमला जम्मू के एक हिंदू शिक्षक रजनी बाला के कुलगाम में एक स्कूल के बाहर आतंकवादियों द्वारा मारे जाने के ठीक दो दिन बाद हुआ है. कुलगाम से सटे शोपियां जिले में दो बड़ी घटनाओं के 24 घंटे के भीतर बैंक मैनेजर की हत्या कर दी गई. एक नागरिक, फारूक अहमद शेख, कल शाम अपने घर के अंदर एक आतंकवादी हमले में घायल हो गया था.

एक अन्य घटना में, आज सुबह उनके वाहन में विस्फोट के बाद तीन सैनिक घायल हो गए. इनमें से एक जवान को गंभीर चोटें आई हैं. सेना के मुताबिक तीनों जवानों ने आतंकवाद विरोधी अभियान के लिए एक निजी वाहन लिया था. उन्होंने बताया कि विस्फोट उस समय हुआ जब वे तय क्षेत्र की ओर जा रहे थे.

जम्मू-कश्मीर: शोपियां में किराए पर लिए गए वाहन में विस्फोट, घायल हुए 3 जवान; जांच में जुटी पुलिस

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बैंक मैनेजर की हत्या की निंदा की और संवेदना व्यक्त की. उन्होंने कश्मीर में शांति बनाए रखने में विफल रहने पर एनडीए सरकार पर भी निशाना साधा और कहा कि उन्हें नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए.

ताजा हमला कश्मीरी पंडितों द्वारा केंद्र शासित प्रदेश में व्यापक विरोध के बीच भी आया है, जिसमें मांग की गई थी कि उन्हें सुरक्षित क्षेत्रों में स्थानांतरित किया जाए. कश्मीरी पंडित राहुल भट की पिछले महीने बडगाम में मजिस्ट्रेट कार्यालय के अंदर गोली मारकर हत्या कर दिए जाने के बाद से समुदाय के सदस्य विरोध कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री के पुनर्वास पैकेज के तहत घाटी में कार्यरत लगभग 4,000 कश्मीरी पंडितों ने बड़े पैमाने पर पलायन की धमकी दी है, क्योंकि वे अब सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं. उन्हें जाने से रोकने के लिए, केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन ने बैरिकेड्स लगा दिए और ट्रांजिट कैंपों के गेट बंद कर दिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सेना और पुलिस के जरिए कश्मीर में शांति बहाल नहीं की जा सकती : फारूक अब्दुल्ला