विज्ञापन
Story ProgressBack

"मोदी सरकार में हड़ताल और आज़ादी के नारे PoK में लग रहे हैं", कश्मीर के मुद्दे पर अमित शाह ने कांग्रेस को घेरा

Amit Shah ने कहा कि मणिशंकर अय्यर जैसे कांग्रेस नेता कहते हैं कि पाकिस्तान के पास परमाणु बम है इस कारण ऐसे नहीं किया जाना चाहिए. लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि वह भारत का हिस्सा है और हम उसे लेंगे.

Read Time: 4 mins
नई दिल्ली:

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने बुधवार को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में विरोध प्रदर्शनों का जिक्र करते हुए कहा कि ‘पीओके भारत का हिस्सा है और हम इसे लेकर रहेंगे.' सेराम्पोर में एक रैली को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि 2019 में अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद एक समय अशांत रहे कश्मीर में शांति लौट आई है, लेकिन पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर अब विरोध प्रदर्शनों और आजादी के नारों से गूंज रहा है.

Advertisement
अमित शाह ने कहा, 'सरकार द्वारा 2019 में अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद कश्मीर में शांति लौट आई है, लेकिन अब हम पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में विरोध प्रदर्शन देख रहे हैं. पहले यहां आजादी के नारे सुनाई देते थे, अब वही नारे पीओके में सुनाई देते हैं. पहले यहां पत्थर फेंके जाते थे, अब पीओके में पथराव हो रहा है.''

पीओके पर कब्जे की मांग का समर्थन नहीं करने के लिए कांग्रेस नेताओं पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा, 'मणिशंकर अय्यर जैसे कांग्रेस नेता कहते हैं कि ऐसा नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि उनके पास परमाणु बम है. लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि वह भारत का हिस्सा है और हम उसे लेंगे.”

भ्रष्ट नेता और ईमानदार नेता के बीच है यह लड़ाई: अमित शाह
शाह ने कहा कि वर्तमान लोकसभा चुनाव ' इंडियन नेशनल इंक्लूजिव डेमोक्रेटिक अलायंस (इंडी) गठबंधन के भ्रष्ट नेताओं और ईमानदार राजनेता नरेन्द्र मोदी के बीच चयन करने का चुनाव है. मोदी के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री रहने के बावजूद कभी भी उनके खिलाफ एक पैसे का भी आरोप नहीं लगा.' उन्होंने कहा, 'बंगाल को तय करना है कि वह घुसपैठिये चाहता है या शरणार्थियों के लिए नागरिकता संशोधन कानून (सीएए). बंगाल को तय करना है कि वह जिहाद के लिए वोट करना चाहता है या विकास के लिए वोट करना चाहता है.' शाह ने सीएए का विरोध करने और अपने वोट बैंक को खुश करने के लिए 'घुसपैठियों के समर्थन में रैलियां निकालने' के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना की.

Advertisement

पीओके में लगातार हो रहे हैं प्रदर्शन
पाकिस्तान के कब्जे (पीओके) वाले कश्मीर में गेहूं के आटे, बिजली की ऊंची कीमतों और अधिक कर के खिलाफ शुरू की गई पूर्ण हड़ताल सोमवार को चौथे दिन भी जारी रही, जिसके चलते देश की सरकार को क्षेत्र में बढ़ती अशांति को खत्म करने के लिए तत्काल 23 अरब रुपये आवंटित करने पड़े. विवादित क्षेत्र में शनिवार को पुलिस और मानवाधिकार आंदोलन के कार्यकर्ताओं के बीच झड़पें हुईं, जिसमें कम से कम एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई और 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे. घायलों में ज्यादातर पुलिसकर्मी थे. 

Advertisement

पीओके में इंटरनेट बंद
पीओके कार्यकर्ता अमजद अयूब मिर्जा ने कहा कि हमें नहीं पता कि क्‍या हो रहा है. इंटरनेट पूरी तरह से बंद है. हमारे लोग मर रहे हैं, हम बहुत ही बुरे हाल में हैं. हम चाहते हैं कि अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय आए और हमारा साथ दे. हम चाहते हैं कि संयुक्‍त राष्‍ट्र हमारी आवाज उठाए. हम भारत सरकार से भी दरख्‍वास्‍त करते हैं कि वो हमारे हाल पर नजर डाले. हमारी जान खतरे में है. हमारे लोगों की जान खतरे में है. मैं जब बात कर रहा हूं तब भी फायरिंग हो रही है.

Advertisement

ये भी पढ़ें- :

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बंगाल में ममता को कितना झटका देंगे, ओडिशा में कितनी सीटें जीतेंग अमित शाह ने बता दिया नंबर
"मोदी सरकार में हड़ताल और आज़ादी के नारे PoK में लग रहे हैं", कश्मीर के मुद्दे पर अमित शाह ने कांग्रेस को घेरा
लोकसभा चुनाव 2024 : दिल्ली में आप-कांग्रेस गठबंधन के सफल या असफल होने का क्या होगा असर?
Next Article
लोकसभा चुनाव 2024 : दिल्ली में आप-कांग्रेस गठबंधन के सफल या असफल होने का क्या होगा असर?
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;