विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Feb 07, 2018

साल 2017 में सांप्रदायिक हिंसा की 822 घटनाएं हुईं, 111 लोगों की मौत हुई

कर्नाटक में बीते साल 100 सांप्रदायिक घटनाएं हुईं जिनमें नौ लोग मारे गए और 229 घायल हो गए. राजस्थान में ऐसी 91 घटनाएं हुईं जिनमें 12 लोग मारे गए और 175 घायल हो गए.

साल 2017 में सांप्रदायिक हिंसा की 822 घटनाएं हुईं, 111 लोगों की मौत हुई
साल 2017 में सांप्रदायिक हिंसा की 822 घटनाएं हुईं, 111 लोगों की मौत हुई: सरकार (प्रतीकात्मक फोटो)
नई दिल्ली: सरकार ने बताया है कि कि पिछले साल देश भर में 822 सांप्रदायिक घटनाएं हुई जिनमें 111 लोगों की मौत हो गई और 2,384 लोग घायल हो गए. लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा कि 2017 में सांप्रदायिक हिंसा की सर्वाधिक 195 घटनाएं उत्तर प्रदेश में हुईं जहां 44 लोग मारे गए और 542 घायल हुए. उन्होंने कहा कि कर्नाटक में बीते साल 100 सांप्रदायिक घटनाएं हुईं जिनमें नौ लोग मारे गए और 229 घायल हो गए. राजस्थान में ऐसी 91 घटनाएं हुईं जिनमें 12 लोग मारे गए और 175 घायल हो गए.

मैंगलुरु : भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बजरंग दल कार्यकर्ता का हुआ दाह संस्कार

मंत्री ने कहा कि 2017 में बिहार में 85 सांप्रदायिक घटनाएं हुईं जिनमें तीन लोगों की मौत हो गई और 321 घायल हो गए. मध्य प्रदेश में 60 घटनाएं हुईं और इनमें नो लाग मारे गए और 191 घायल हो गए.

उन्होंने कहा कि पिछले साल पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक हिंसा की 58 घटनाएं हुईं जिनमें नौ लोग मारे गए और 230 घायल हो गए. गुजरात में 50 घटनाएं हुईं और आठ लोग मारे गए और 125 घायल हो गए.

इनपुट : भाषा
 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
कांवड़ यात्रा : आचार्य प्रमोद ने यूपी में दुकानों पर 'नेमप्लेट' लगाने के फैसले का किया समर्थन
साल 2017 में सांप्रदायिक हिंसा की 822 घटनाएं हुईं, 111 लोगों की मौत हुई
योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के राज्यपाल से मुलाकात की, जानें किस मुद्दे पर बात हुई?
Next Article
योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के राज्यपाल से मुलाकात की, जानें किस मुद्दे पर बात हुई?
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;