योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में कई 'परिवारवादी' चेहरे, यूपी चुनाव में बीजेपी ने परिवारवाद को बनाया था बड़ा मुद्दा

UP Ministers List : बीजेपी ने भले ही परिवारवाद को बड़ा मुद्दा बनाया और समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल को इस मुद्दे पर निशाने पर रखा. खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद परिवारवाद को लेकर विपक्ष पर आक्रामक तरीके से हमला बोला था.

योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में  कई 'परिवारवादी' चेहरे, यूपी चुनाव में बीजेपी ने परिवारवाद को बनाया था बड़ा मुद्दा

Yogi Ministers List : योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट में कई परिवारवादी मंत्री बने

नई दिल्ली:

यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने भले ही परिवारवाद को बड़ा मुद्दा बनाया और समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल को इस मुद्दे पर निशाने पर रखा. खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद परिवारवाद को लेकर विपक्ष पर आक्रामक तरीके से हमला बोला और इसे लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया था. पीएम ने दस दिनों पहले बीजेपी संसदीय दल की बैठक में भी कहा कि उनकी वजह से ही बीजेपी के कई सांसदों या विधायकों के बेटों को विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिला. 
हालांकि योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट की बात करें तो बीजेपी परिवारवाद से बच नहीं पाई. पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के पोते संदीप सिंह (Sandeep Singh) को पार्टी ने मंत्री बनाया है. वो अतरौली से विधायक हैं. उनके पिता राजवीर सिंह भी पूर्व में बीजेपी सांसद के साथ पार्टी के बड़े नेता हैं. बीजेपी ने हरदोई से बीजेपी सांसद नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल (Nitin Agarwal) को भी मंत्री बनाया है. समाजवादी पार्टी से दो बार विधायक रहे नितिन अग्रवाल ने चुनाव के कुछ वक्त पहले पाला बदल बीजेपी का दामन थामा था और उन्हें डिप्टी स्पीकर बनाया गया था. 

बीजेपी के दो सहयोगी दलों अपना दल सोनेलाल और निषाद पार्टी को पारिवारिक पार्टी ही माना जाता है. अपना दल के कोटे से आशीष पटेल को मंत्री बनाया गया है, जो केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के पति हैं. वो अपना दल के कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं. वहीं निषाद पार्टी से संजय निषाद को मंत्री बनाया गया है. वो खुद निषाद पार्टी के प्रमुख भी हैं.  बीजेपी की पांच महिला मंत्रियों में से एक प्रतिभा शुक्ला के पति अनिल शुक्ला भी बीजेपी नेता हैं, जो कई पार्टियों से पाला बदल बीजेपी में पहुंचे हैं.

अनिल राजभर के पिता रामजीत राजभर भी विधायक रहे हैं. अनिल राजभर ने शिवपुर सीट से ओमप्रकाश राजभर को चुनाव में हराया था. जितिन प्रसाद को भी पार्टी में ब्राह्मण चेहरे के तौर पर कांग्रेस से अपने पाले में लाई है, उनके पिता जितेंद्र प्रसाद बड़े कांग्रेस नेता रहे. 

- ये भी पढ़ें -

* योगी मंत्रिमंडल में नया मुस्लिम चेहरा, जानें कौन हैं दानिश आजाद अंसारी, जिन्हें मिली बड़ी जिम्मेदारी
* योगी सरकार 2.0 : केशव प्रसाद मौर्य और ब्राह्मण नेता ब्रजेश पाठक बने यूपी के डिप्टी CM
* योगी आदित्‍यनाथ की 'नई टीम' में दिनेश शर्मा समेत इन अहम पुराने चेहरों को नहीं मिली जगह

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


केशव प्रसाद मौर्य फिर बने यूपी के डिप्टी सीएम, सिराथू सीट से हार गए थे चुनाव