"मैं शेर का बेटा हूं, लंबी लड़ाई के लिए तैयार," चिराग पासवान ने पार्टी के बागी नेताओं को दी चुनौती

Chirag Paswan News : LJP के छह सांसदों में पांच सांसदों ने बगावत कर चिराग की जगह पशुपति कुमार पारस को संसदीय दल का नया नेता नियुक्त किया है. चिराग ने जवाब में पटना में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाकर इन असंतुष्ट नेताओं को पार्टी से निकाल दिया.

नई दिल्ली:

लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party LJP)के अंदर मचे घमासान के बीच पार्टी नेता चिराग पासवान(Chirag Paswan) ने बुधवार को प्रेस कान्फ्रेंस की और अपना पक्ष रखा. चिराग ने कहा कि कुछ समय से मेरी तबीयत ठीक नही थी. जो हुआ वो मेरे लिये ठीक नही था, दवाई लेकर आया हूं. पार्टी में फूट और बिहार की राजनीति में अलग-थलग पड़ने के बीच चिराग ने कहा कि एक लंबी लड़ाई लड़नी पड़ेगी. लड़ाई लंबी है और समय-समय पर सवाल का जवाब वो देंगे. दरअसल, एलजेपी के छह सांसदों में पांच सांसदों ने बगावत कर चिराग की जगह पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) को संसदीय दल का नया नेता नियुक्त किया है.

चिराग- सिर पर बांधिए गमछा और निकल पड़िए बिहार की सड़कों पर...

चिराग पासवान ने इसके जवाब में पटना में मंगलवार को राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाकर इन सभी असंतुष्ट नेताओं को पार्टी से निकाल दिया. पशुपति कुमार पारस चिराग पासवान के चाचा और पूर्व केंद्रीय मंत्री दिवंगत राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के भाई हैं. 

क्या चिराग़ भाजपा और नीतीश के संयुक्त मिशन के शिकार हुए?

8 अक्टूबर के बाद पिताजी के जाने के बाद तुरंत चुनाव में जाना पड़ा. विधानसभा चुनाव में एलजेपी (LJP) को जीत मिली है. उसे संख्या से नहीं आंकें, हमें 6 फीसदी वोट मिला, मैंने किसी भी हालत में मुद्दे पर समझौता नही किया और जेडीयू के साथ अलग रहेंगे. यह पार्टी का फैसला था. चिराग ने बताया, जब पापा अस्पताल थे, तब भी पार्टी को तोड़ने की बात सामने आई थी. पार्टी में कुछ लोग संघर्ष करना नही चाहते. हम अगर बिहार में नीतीश के साथ लड़ते तो कही ज़्यादा बहुमत मिलता, लेकिन मुझे नतमस्तक होना पड़ता. विधानसभा चुनाव में मुझे चाचा सहित कई नेता का सहयोग नही मिला.

पार्टी में फूट और बिहार की राजनीति में अलग-थलग पड़ने के बीच चिराग ने कहा कि एक लंबी लड़ाई लड़नी पड़ेगी. मैं इस मसले को आगे नही बढ़ाना चाहता था लेकिन अनुशासन के लिए कार्रवाई करना पड़ी.चिराग ने कहा, मुझे टाइफाइड हुआ, 40 दिन लगा ठीक होने पर. उस दौरान ये साजिश रची गई. मैंने बात करना चाही और होली के दिन भी मेरे साथ कोई भी नही था. हम उनसे बात करना चाहते थे, क्योंकि मेरी कोशिश पार्टी और परिवार को बचाने की थी. लेकिन कल जब लगा, अब कुछ नहीं हो सकता तो फिर मैंने उनको निकाला. मुझे कहते तो मैं उनको लोकसभा नेता बना देता, लेकिन जिस तरीके से उनको नेता चुना गया वो प्रक्रिया गलत थी. यह निर्णय संसदीय बोर्ड के पास है. जेडीयू ने समाज को बांटने की कोशिश की. दलित और महादलित के नाम पर बांटने की कोशिश की, लेकिन मेरे साथ और पार्टी के साथ बिहार की जनता खड़ी है.

संसदीय दल के नेता से हटाए जाने पर चिराग ने कहा, अधिकार मुझे संविधान ही देता है, पार्टी का संविधान मुझे देता है. एलजेपी का संविधान मुझे अधिकार देता है. बिहार विधानसभा चुनाव पर जो भी फैसला लिया गया, उस समय सब के मुताबिक लिया गया, तब किसी ने सवाल क्यों नही उठाए. एलजेपी में वर्चस्व की जद्दोजहद पर चिराग ने कहा कि हम सब कानूनी मामलों को लेकर विचार कर रहे हैं और वो कोई फैसला ले ही नही सकते. स्पीकर को चिट्ठी नही लिख सकते. उन्होंने दोहराया, इस पूरे खेल में जेडीयू का हाथ जरूर है, लेकिन अपने लोगों ने उन्हें धोखा दिया. पहले अंदरूनी मामला सुलझा लूं और बाकी बाद में देखूंगा. प्रेस कान्फ्रेंस में बीजेपी का नाम लेने से बचे. चिराग पासवान ने कहा कि जिस महिला ने प्रिंस पर आरोप लगाए हैं, हमने  उनसे पुलिस के पास जाने को कहा है.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com