UP में कोरोना के मामलों की तादाद बढ़कर 2600 तक पहुंची, लखनऊ में रिकॉर्ड मरीज मिले

पिछले 24 घंटों के दौरान यूपी में कोरोना संक्रमित 9 लोगों की मौत हो गई है. यूपी में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 8820 हो गई है. सबसे ज्यादा दो-दो मौतें प्रयागराज और लखनऊ में हुई हैं.

UP में कोरोना के मामलों की तादाद बढ़कर 2600 तक पहुंची, लखनऊ में रिकॉर्ड मरीज मिले

UP Coronavirus Cases :यूपी में भी मामले तेजी से बढ़ रहे हैं

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश में कोरोना के संक्रमित (UP Coronavirus Cases) नए मामलों की तादाद रोजाना 2600 तक पहुंच गई है. जबकि पिछले 24 घंटों के दौरान 9 लोगों की मौत हो गई है.लखनऊ में सबसे ज्यादा कोरोना के केस मिले हैं. प्रयागराज (Prayagraj), कानपुर (Kanpur), वाराणसी (Varanasi) में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं.

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद में गुरुवार को कहा कि पिछले 24 घंटों के दौरान यूपी में कोरोना संक्रमित 9 लोगों की मौत हो गई है. यूपी में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 8820 हो गई है. सबसे ज्यादा दो-दो मौतें प्रयागराज और लखनऊ में हुई हैं. कानपुर नगर, वाराणसी, गोरखपुर, बाराबंकी और गाजीपुर में कोरोना संक्रमित 1-1 व्यक्ति की मौत हुई है. प्रसाद ने कहा कि पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में 2600 नए मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है. सबसे ज्यादा 935 नए मामले राजधानी लखनऊ में मिले हैं.


प्रयागराज में 242, वाराणसी में 198 और कानपुर में 103 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. अपर मुख्य सचिव ने बताया कि यूपी में कल एक दिन में कुल 1,24,135 नमूनों की जांच की गई है. उत्तर प्रदेश में अब तक कुल 3,49,22,434 नमूनों की जांच की गई है. प्रसाद ने कहा कि यूपी में 45 वर्ष से अधिक आयु वालों को कोविड टीकाकरण 5000 सेंटर पर हो रहा है. लिहाजा जो भी पात्र हैं, वे वैक्सीनेशन जरूर कराएं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जो लोग टीकाकरण कराना चाहते हैं वे अपना कोविन पोर्टल पर जाकर पंजीकरण कर सकते है. जो लोग ऑनलाइन पंजीकरण नहीं कर पाते है, वे स्वयं अपना आधार कार्ड या कोई पहचान पत्र लेकर टीकाकरण केंद्र पर जाएं. वहां पंजीकरण करके टीकाकरण कर दिया जाएगा. अगर निजी अस्पतालों में टीकाकरण कराते हैं तो एक डोज के 250 रुपये चुकाने होंगे. 11 लाख से अधिक लोग दोनों खुराक लगवा चुके है, जो लोग दोनों खुराक ले चुके हैं उनमें न के बराबर संक्रमण पाया गया है. हालांकि कोरोना संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है, इसलिए टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें.